18+ Gandi Shayari In Hindi | New गंदी शायरी

gandi shayari | shayari gandi

We Are presenting GANDI SHAYARI, gandi shayari messages, gandi shayari messages hindi, gandi gandi shayari, hindi shayari gandi shayari messages. तो दोस्तों इस शायरी को आप अंत तक ज़रूर पढ़ें और इसे अपने प्रेमी और प्रेमिका के साथ भी ज़रूर शेयर करें।

 

 

Gandi Shayari Messages

 

gandi shayari messages hindi
gandi shayari messages hindi

रात रात भर जाग कर उसे याद करता हूँ

उसको सीने से लगाने के सपने देखा करता हूँ

 

Raat Raat bhar jaag kar usey yaad karta hu

Usko seene se lagane ke sapne dekha karta hu

 

 

तेरे जिस्म की खुशबू में खोना चाहता हूँ

तुमसे लिपट कर मैं तेरा होना चाहता हूँ

 

Tere jism ki khushbu mein khona chahta hu

Tumse lipat kar main tera hona chahta hu

 

तेरे महकते बदन को बाहों में भर लूँ

आओ तुम्हें झुका कर में प्यार कर लूं

 

Tere mehkete badan ko baahon mein bhar lu

Aao tumhe jhuka kar main pyar kar lu

 

बन जाओ मेरी रानी या बन जाओ मेरी रां*

आज यह दिल मारना चाहता है तेरी गां*

 

Ban jao meri rani ya ban jao meri ran*

Aaj yeh dil marna chahta hai teri gan*

 

ठंड के मौसम में थोड़ा गर्म माहौल बना दो

मुझसे लिपट कर मेरे जिस्म की प्यास बुझा दो

 

Thand ke mausam mein thoda garam mahol bana do

Mujhse lipat kar mere jism ki pyas bujha do

 

Shayari Gandi | गंदी शायरी

 

gandi shayari messages hindi shayari gandi
gandi shayari messages hindi shayari gandi

तेरी याद में रात को पिचकारी छोड़ देता हूँ

कुछ ऐसे मैं अकेले रात गुज़ार लेता हूँ

 

Teri yaad mein raat ko pichkari chhod deta hu

Kuch aise main akele raat guzar leta hu

 

तुम जब भी सज्ज सँवर कर मेरे सामने आती हो

मेरे सीने से दिल निकाल कर ही ले जाती हो 

 

Tum jab bhi sajj sanwar kar mere samne aati ho

Mere seene se dil nikal kar hi le jaati ho

 

तेरी इज्ज़त में खुद खड़ा होकर

तुमको मैं इतना सम्मान देता हूँ

इतनी इज्ज़त करता हूँ कि तुम्हें देख कर

खड़ा कर अपना सामान लेता हूँ

 

Teri ijjat mein khud khada hokar

Tumko main itna samman deta hu

Itni ijjat karta hu ki tumhe dekh kar

Khada kar apna samaan leta hu

 

होंटों को दांतों के नीचे दबा रही हो

इश्क़ का जाल तुम बिछा रही हो

यह हिला हिला कर अपने जिस्म को

हमें इतना क्यों तड़पा रही हो

 

Honto ko danto ke neeche dabaa rahi ho

Ishq ka jaal tum bichha rahi ho

Yeh hila hila kar apne jism ko

Hume itna tadpa rahi ho

 

हमें तुमसे आज करना है प्यार

तुम यह खोल दो सलवार

तेरे हुस्न को देख कर

अब और नहीं होता इंतेज़ार

 

Hume tumse aaj karna hai pyar

Tum yeh khol do salwar

Tere husn ko dekh kar

Ab aur nahi hota intezaar

 

gandi shayari messages hindi

 

gandi shayari messages hindi
gandi shayari messages hindi

हमने की वफ़ा मगर

उसने दिल तोड़ा मेरा

उसने पूछा याद आती है

हमने कहा जी ❤️ड़ा मेरा

 

Humne ki wafa magar

Usne dil toda mera

Usne pucha yaad aati hai

Humne kaha ji loveda mera

 

ऐसे छुपा कर रखती हो

जैसे कोई हो तलवार

अब सब्र नहीं होता

तुम खोल दो सलवार

 

Aise chhupa kar rakhti ho

Jaise koi ho talwar

Ab sabar nahi hota

Tum khol do salwar

 

मुँह में लेना तुम्हें पसंद नहीं

एक भी कतरा शराब का

फिर क्यों बोलती हो कि धीरे से डालो

बालों में फूल गुलाब का

 

Muh mein lena tumhe pasand nahi

Ek bhi katra sharab ka

Fir kyun bolti jo ki dheere se daalo

Baalon mein phool gulab ka

 

जब भी हमें तेरी याद आती है

नीचे एक हलचल पैदा हो जाती है

तेरे बदन की यह खूबसूरती

हमें तेरी और खींच कर लाती है

 

Jab bhi hume teri yaad aati hai

Neeche ek halchal paida ho jati hai

Tere badan ki yeh khubsurti

Hume teri aur kheench laati hai

 

उसके होंटों की बिखरी लिपस्टिक

यह बता रही है

वो किसी और के साथ प्रेम सबंध

बना कर आ रही है

 

Uske honton ki bikhri lipstick

Yeh bataa rahi hai

Woh kisi aur ke saath prem sambal

Bana kar aa rahi hai

 

gandi gandi shayari

 

gandi shayari messages
gandi shayari messages

तुझसे लिपट कर तेरे सीने को

होंटों से छूना चाहता हूँ

तेरे इस बदन को मैं अपने हाथों से

सहलाना चाहता हूँ

 

Tujhse lipat kar tere seene ko

Honto se chhuna chahta hu

Tere is badan ko main apne hatho se

Sehlana chahta hu

 

आज तुझसे लिपट कर सो जाने दे

तेरे इस बदन को मुझे दबाने दे

 

Aaj tujhse lipat kar so jane do

Tere is badan ko mujhe dabane do

 

चार दिन की ज़िंदगी है

अच्छे से गुज़ार लो

पटा लो एक बंदी

और उसकी गांd मार लो

 

Chaar din ki zindagi hai

Achhe se guzar lo

Pataa lo ek bandi

Aur uski gan maar lo

 

जब जब याद तेरी आये खुद को समझा लेता हूँ

जब होता नहीं खुद पर काबू तो फिर हिला लेता हूँ

 

Jab jab yaad teri aaye khud lo samjha leta hu

Jab hota nahi khud par kabu toh fir hila leta hu

 

ठंड के मौसम में भी बिस्तर कर दे गर्म

तेरा यह बदन कितना है नर्म

 

Thand ke mausam mein bhi bistar kar de garam

Tera yeh badan kitna hai naram

 

Gandi Shayari In Hindi

 

 

तेरे होंटों को अपने होंटों में दबा कर खा जाऊं

तेरे इस जिस्म को जब भी देखूं तो पागल हो जाऊं

 

Tere honton ko apne honto mein daba kar kha jau

Tere is jism ko jab bhi dekhu toh pagal ho jau

 

प्यार की इन हदों को टूट जाने दो

रोको ना आज हमें तुझमें डूब जाने दो

 

Pyar ki in hadon ko toot jane do

Roko na aaj hume tujhme doob jane do

 

इश्क़ ना देखे रंग रूप

इश्क़ ना देखे जात पात

तुम्हें देख कर हर कोई चाहे

तेरे साथ मनाना सुहागरात

 

Ishq na dekhe rang roop

Ishq na dekhe jaat paat

Tumhe dekh kar har koi chahe

Tere saath manana suhagrat

 

Read More: Best Jaani Shayari In Hindi & Punjabi 2022