444+ Best Chand shayari | चाँद पर शायरी 2022

chand shayari photo

Chand shayari: चाँद जिसे हम हर रोज़ रात को आसमान में निकलता हुआ देखते हैं, इस चाँद का ज़िक्र बहुत से लेखकों ने अपने गीतों, शेरों और गज़लों में किया है। इसलिए आज हम भी आपके लिए Chand Shayari लेकर आये हैं। तन्हाई में बैठे कुछ आशिकों का सहारा होता है चाँद तो वही कुछ लोग चाँद को देखते हुए अपने past में खो जाते हैं। तन्हाई में बैठ कर चाँद को देखना भी एक बेहद खूबसूरत एहसास होता है।

ज़मीन से रात को आसमान की तरफ देखने पर खूबसूरत सा चमकता हुआ चाँद अक्सर नज़र आता है और एक ही वक़्त पर पृथ्वी से लाखों लोग इस चाँद की तरफ देख रहे होते हैं। इस चाँद का रिश्ता हमारे त्योहारों के साथ भी बहुत गहरा है जहां मुस्लिम इस चाँद से जुड़ा त्यौहार ईद मनाते हैं वही हिंदू लोग करवाचौथ का त्योहार मनाते हैं।

इसमें हम आपके साथ Chand shayari in hindi, shayari on moon, chand shayari gulzar, two line chand shayari, romantic chand shayari, love chand shayari and shayari on chand शेयर करेंगे।

 

Read Also: Cute Shayari In Hindi

 

Chand Shayari

chand shayari in hindi photo
chand shayari in hindi photo

 

तेरे चेहरे से ऐसे नूर झलकता है

जैसे दूर आसमान में चाँद चमकता है।।

 

Tere chehre se aise noor jhalakta hai

Jaise door aasman mein chand chamkta hai

 

Haatho se kismat ki mitt chuki rekha hai

Maine barson se ek chand ko na dekha hai

 

हाथों से किस्मत की मिट चुकी रेखा है

मैंने बरसों से एक चाँद को ना देखा है।।

 

खिलते हैं गुल, गुलशन में

जब बाहार आती है

तेरे चाँद से चेहरे को देख

मेरी नज़र हट ना पाती है

 

Khilte hai gul, gulshan mein

Jab bahaar aati hai

Tere chand se chehre ko dekh

Meri nazar hatt na paati hai

 

chand shayari in hindi

 

रात निकलती है चाँद सितारों से

कोई खूबसूरत नजारा नहीं देखा

तेरी अदाओं के नज़ारों से

 

Raat nikalti hai chand sitaron se

Koi khubsurat nazara nahi dekha

Teri adaaon ke nazaron se

 

तुझे देखे बिना ना

दिल की धड़कनें चलती हैं

मेरी आँखें तेरे चाँद से चेहरे को

देखने का हर वक़्त इंतज़ार करती हैं।।

 

Tujhe dekhe bina na

Dil ki dhadakne chalti hai

Meri aankhein tere chand se chehre ko

Dekhne ka har waqt intezaar karti hai

 

Maine chand ko subah nikalte dekha hai

Maine usko aaj sawrte dekha hai

 

मैंने चाँद को सुबह निकलते देखा है

मैंने उसको आज संवरते देखा है।।

 

chand shayari in hindi

 

chand shayari ghalib photo
chand shayari ghalib photo

खूबसूरत ग़ज़ल जैसा है तेरा चाँद सा चेहरा

निगाहें शेर पढ़ती हैं तो लब इरशाद करते हैं

 

Khubsurat gazal jaisa hai tera chand sa chehra

Nigahein sher padhti hai toh lab irshad karte hai

 

Na jane kis rehn basero ki talash hai is chand ko

Raat bhar bina kambal bhatakta rehta hai in sard raato mein

 

ना जाने किस रैन बसेरो की तलाश है इस चाँद को

रात भर बिना कम्बल भटकता रहता है इन सर्द रातो मे

 

Bechain is kadar tha ki soya na raat bhar

Palkon se likh raha tha tera naam chand par

 

बेचैन इस क़दर था कि सोया न रात भर

पलकों से लिख रहा था तेरा नाम चाँद पर

 

chand shayari urdu

 

कहाँ से लाऊं वो लफ्ज़, जो सिर्फ तुझे सुनाई दे

दुनिया देखे चाँद को और मुझे सिर्फ तू दिखाई दे

 

Kaha se laun woh lafz jo sirf tujhe sunayi de

Duniya dekhe chand ko aur mujhe sirf tu dikhayi de

 

देखना यारों, देख कर मेरी जान को 

आज टूटेगा गुरुर चाँद का

आज मैंने उसको छत पर बुला रखा है

क्योंकि उसने हुस्न से पर्दा हटा रखा है

 

Dekhna yaaro, dekh kar meri jaan ko

Aaj tootega guroor chand ka

Aaj maine usko chhat par bula rakha hai

Kyunki usne husn se parda hata rakha hai

 

तुम आ गए हो तो फिर चांदनी सी बातें हों

ज़मीन पे चाँद कहाँ रोज़ रोज़ उतरता है

 

Tum aa gaye ho toh fir chandani si baatein ho

Zameen pe chand kaha roz roz utarta hai

 

Chand Shayari Gulzar

chand shayari gulzar photo
chand shayari gulzar photo

 

यह कैसे धोखे हमने खाए हुए हैं

रात गुज़र गयी और हम चाँद सजाए हुए हैं।।

 

Yeh kaise dhokhe humne khaye huye hai

Raat guzar gayi aur hum chand sajaye huye hai

 

सीधा-सादा उफ़ुक़ से निकला था 

सर पे अब चढ़ता जा रहा है चाँद 

-गुलज़ार

 

Seedha Sada uffk se nikla tha

Sar pe ab chadta ja raha hai chand

 

रात में छिपकर मिलने का

मुकदमा हुआ था हम पर

जीत पक्की थी पर

चाँद गवाही दे गया।।

 

Raat mein chhup kar milne ka

Muqadma hua tha hum par

Jeet pakki thi par 

Chand gawahi de gaya

 

चाँद शायरी गुलजार

 

चाँद के साज़ पर रोशनी

गीत गाते हुए आ रही है,

तेरी ज़ुल्फ़ों से छनकर वो देखो

चांदनी नूर बरसा रही है।

 

Chand ke saaz par roshni

geet gaate huye aa rahi hai

Teri zulfon se chhan kar

woh dekho chandni noor barsa rahi hai

 

बड़ी तसल्ली से देखा है

आज मैंने उसे

अगर आज नींद नहीं आयी

तो कोई बात नहीं।।

 

Badi tassali se dekha hai

Aaj maine usey

Agar aaj neend nahi aayi

Toh koi baat nahi

 

Chand shayari gulzar 2 line

 

चाँद से बातें करता है

अपने चाँद की बातें करता है

ये पगला आशिक,

रात भर चाँद पाने के

तरीके सोचा करता है।।

 

Chand se baatein karta hai

Apne chand ki baatein karta hai

Yeh pagla aashiq

Raat bhar chand paane ke

Tarike socha karta hai

 

किसने रास्ते मे चांद रखा था,

मुझको ठोकर लगी कैसे।

वक़्त पे पांव कब रखा हमने,

ज़िंदगी मुंह के बल गिरी कैसे।।

 

Kisne raste mein chand rakha tha

Mujhko thokar lagi kaise

Waqt pe paon kab rakha humne

Zindagi munh ke bal giri kaise

 

Moon shayari gulzar

 

रात को चाँदनी तो ओढ़ा दो,

दिन की चादर अभी उतारी है।

 

Raat ko chandni toh odha do

Din ki chadar abhi uttari hai

 

मोहब्बत थी तो, चाँद था,

उतर गई तो, दाग भी दिखने लगे।।

 

Mohabbat thi toh chand tha

Uttar gayi toh, daag bhi dikhne lage… 

 

2 line romantic chand shayari

two line chand shayari photo
two line chand shayari photo

 

चमकते चाँद के सामने ना आया करो

अपने हुस्न से चाँद को ना जलाया करो

 

Chamakte chand ke samne na aaya karo

Apne husan se chand ko na jalaya karo

 

तेरा चेहरा जैसे चमकता कोई चाँद हो

तेरे हुस्न पर काला तिल जैसे चाँद में कोई दाग हो

 

Tera chehra jaise chamkta koi chand ho

Tere husan par kala til jaise chand mein koi daag ho

 

तेरे हुस्न को देख कर जल जाता है

जब निकलती हो तुम चाँद ढल जाता है

 

Tere husan ko dekh kar jal jata hai

Jab nikalti ho tum chand dhal jata hai

 

chand shayari 2 line

 

चाँद से चेहरे वाली वो मेरी जान है

चाँद से भी ज्यादा चमकती उसकी मुस्कान है

 

Chand se chehre wali woh meri jaan hai

Chand se bhi jayada chamakti uski muskan hai

 

रोमांटिक chand shayari
रोमांटिक chand shayari

ए चाँद जैसे हुस्न वाली ना करना हमसे दूरी

क्योंकि तू मुझे मेरी साँसों से ज्यादा है जरूरी।।

 

ए चाँद आंखों के सामने ना आया कर

हर रात मुझे उसकी याद ना दिलाया कर

 

Ae chand aankhon ke samne na aaya kar

Har raat mujhe uski yaad na dilaya kar

 

उसके चेहरे को छुपा लूँ मैं लोगों की नज़रों से

कहीं कोई नज़र ना लगा दे उसे चाँद कह कर

 

Uske chehre ko chhupa lu main logo ki nazron se

Kahi koi nazar na laga de usey chand keh kar

 

चाँद शायरी 2 लाइन

 

चाँद निकले तो पर्दा ना हटाया करो

ऐसे बेरहमी से चाँद को न जलाया करो

 

Chand nikle toh parda na hataya karo

Aise berahmi se chand ko na jalaya karo

 

क्यों अपने हुस्न के तीर चलाते रहते हो

आप बेवजह ही हमें सताते रहते हो

 

Kyun apne husn ke teer chalate rehte ho

Aap bewajah hi humein satate rehte ho

 

मेरी जान हो तुम

मेरी ज़िंदगी बन कर रहा करो

जलता हूँ कोई और देखे

चाँद सा चेहरा छुपा कर रखा करो

 

Meri jaan ho tum

Meri zindagi ban kar raha karo

Jalta hu jab koi aur dekhe

Chand sa chehra chhupa kar rakha karo

 

चाँद पर शायरी

 

आपके हुस्न को चाँद की खूबसूरती से मिलाते हैं

हम आपके नाम पर अक्सर शायरी बनाते हैं

 

Aapke husan ko chand ki khubsurti se milate hai

Hum aapke naam par aksar shayari banate hai

 

तेरे हुस्न पर लिखता हूँ कभी

फिर चाँद पर लिखता हूँ

मैं शायर हूँ छोटा सा मगर

हर एक बात पर लिखता हूँ

 

Tere husn par likhta hu kabhi

Fir chand par likhta hu

Main shayar hu chhota sa magar

Har ek baat kar likhta hu

 

शायरी लिख दुँ चाँद पर तो कहीं

तेरा हुस्न बुरा न मान जाए

इसलिए तेरा यह रांझा हर शायरी में

तेरे हुस्न को चाँद से भी खूबसूरत बताए

 

Shayari likh du chand par toh kahi

Tera husn bura na maan jaye

Isliye tera yeh ranjha har shayari me

Tere husn ko chand se khubsurat bataye

 

चाँद पर शायरी इन हिंदी

 

आज एक हसीना को गली में जाते देखा

पहली बार चाँद को धरती पर चलते देखा।।

 

Aaj ek haseena ko gali mein jate dekha

Pehli bar chand ko dharti par chalte dekha

 

तुम जब चाँद से भी ज्यादा

सज़्ज कर चली आती हो

कसम खुदा की

कई दिलों में आग लगाती हो

 

Tum jab chand se bhi jayada

Sajj kar chali aati ho

Kasam khuda ki

Kayi dilo me aag lagatii jo

 

तेरे हुस्न के ख्वाब मुझे आते रहते हैं

तेरे लफ्ज़ मीठे हमें नींदों से जगाते रहते हैं।। 

 

Tere husn ke khawab mujhe aate rehte hai

Tere lafz meethe hume neendo se jagate rehte hai

 

तेरे हुस्न की तारीफ चाँद कह कर भी नहीं कर सकता

क्योंकि उस चाँद में भी दाग हैं पर तेरे हुस्न में नहीं।।

 

Tere husn ki tareef chand keh kar bhi nahi kar sakta

Kyunki us chand mein bhi daag hai par tere husn me nahi

 

Chand Par Shayari

चाँद पर शायरी
चाँद पर शायरी

देखकर चाँद को अक्सर ही तेरी याद आ जाती है

मेरी आँखें रात को बस तुम्हें ही देखना चाहती हैं

 

Dekhkar chand ko aksar hi teri yaad aa jati hai

Meri aankhein raat ko bas tumhe hi dekhna chahti hai

 

उसे देख कर चाँद भी शर्मा जाता होगा

जब वो अपने हुस्न को सज़ा कर चला आता होगा

 

Usey dekh kar chand bhi sharma jata hoga

Jab woh apne husn ko saja kar chala aata hoga

 

देखते हैं लोग चाँद को

तारों को पाने की ख्वाइश रखते हैं

हम तुम्हें देख कर फिदा हैं

तेरे कदमों में अपनी जान रखते हैं

 

Dekhte hai log chand ko

Taaron ki khawaish rakhte hai

Hum tumhe dekh kar fidaa

Tere kadmo me apni jaan rakhte hai

 

Love chand shayari

 

चाँद को देख कर एहसास हुआ के

खूबसूरत चीजों को पाना बहुत मुश्किल है

 

Chand ko dekh kar ehsas hua ke

Khubsurat cheezo ko pana bahut mushkil hai

 

तुम मुझे छोड़ कर ना रोना

किसी खूबसूरत चाँद के जा होना

मेरे जाने के बाद तुम खुश रहना

चाहे किसी की बाहों में भी सोना

 

Tum mujhe chhod kar na rona

Kisi khubsurat chand ke ja hona

Mere jane ke baad tum khush rehna

Chahe kisi ki baahon me bhi sona

 

खूबसूरत चाँद हमसे बहुत दूर है

ओर जो चाँद पास ही हमारे

उसे अपने चाँद से हुस्न का

बहुत ज़्यादा गुरूर है 

 

Khubsurat Chand Par Shayari

love chand shayari photo
love chand shayari photo

 

देख रहा हूँ छत पर कहीं

चाँद का दीदार हो जाए

जैसे हम चाहते हैं उस चाँद को

उसे भी हमसे प्यार हो जाए

 

Dekh raha hu chhat par kahi

Chand ka deedar ho jaye

Jaise hum chahte hai us chand ko

Usey bhi humse pyar ho jaye

 

आसमान में चमकता है चाँद और साथ में हैं सितारे

तुम बनो तो चाँद हम आसमान बन जाते हैं तुम्हारे।।

 

Aasman mein chamakta hai chand aur sath mein hai sitare

Tum bano toh chand hum aasman ban jate hai tumhare

 

गली में निकल आओ तुम

देखने को नज़रें बिछाए बैठा हूँ

आसमान के चाँद से पहले तुम निकलोगी

यह दोस्तों से शर्त लगाए बैठा हूँ

 

Gali mein nikal aao tum

Dekhne ko nazrein bichaye betha hu

Aasman ke chand se pehle tum niklogi

Yeh dosto se shart lagaye betha hu

Khubsurat chand par shayari

 

चाँद देखती है तूं मेरी ज़िंदगी है तूं

देखने की क्या ज़रूरत आसमान में

आईने में देखो चाँद से भी खूबसूरत है तूं

 

Chand dekhti hai tu meri zindagi hai tu

Dekhne ki kya zarurat aasman mein

Aaine me dekho chand se bhi khubsurat hai tu

 

तेरे चेहरे को थोड़ा देख तुझमें जो खो जाता हूँ मैं

यह तेरे चाँद से चमकते हुस्न का कामाल लगता है

 

Tere chehre ko thoda dekh tujhme jo kho jata hu main

Yeh tere chand se chamkte husn ka kamal lagta hai

 

Chand par shayari

 

तेरे हुस्न पर अच्छा कोई गम नहीं लगता

हँसते हुए तेरा हुस्न चाँद से कम नहीं लगता

 

Tere husn par acha koi gam nahi lagta

Haste huye tera husn chand se kam nahi lagta

 

Shayari On Chand

चाँद पर शायरी फ़ोटो
चाँद पर शायरी फ़ोटो

 

तेरा हुस्न ना जाने कितने दिलों का क़ातिल है

चाँद सा हुस्न तेरा शरेआम क़त्ल करता फिरता है।।

 

Tera husn na jane kitne dilo ka qaatil hai

Chand sa husn tera sareaam qatal karta firta hai

 

Love Shayari on chand

 

आज आना मुझसे मिलने छत पर 

और आकर हुस्न से पर्दा हटा देना

यह चाँद दिलाता है मुझे तेरी यादें

तुम अपने हुस्न से इस चाँद को जला देना।।

 

Aaj aana mujhse milne chhat par

Aur aakar husn se parda hataa dena

Yeh chand dilata hai mujhe teri yaad

Tum apne husn se is chand ko jala dena

 

रात भर इंतज़ार रहा उसके आने का

एक एक लम्हां मुश्किल से गुज़र गया

चाँद करके गया था वादा मिलने का

मगर वो आने से मुक्कर गया

 

Raat bhar intezaar raha uske aane ka

Ek ek lamha mushkil se guzar gaya

Chand karke gaya tha vaada milne ka

Magar woh aane se mukkar gaya

 

इंतज़ार रहा रात भर जिस चाँद का

वो सुबह दरवाज़े पर चला आया.

 

Intezaar raha raat bhar jis chand ka

Woh subah darwaze par chala ayaa

 

shayari on chand in hindi

 

मेरे सर पर चढ़ रखा तेरा नशा है

तेरे चाँद से हुस्न में अलग सा मज़ा है।।

 

Mere Sar Par Chadh Rakha Tera Nasha Hai

Tere Chand Se Husn Mein Alag Sa Maza Hai

 

बाहों में तेरी रहने की सज़ा मिल जाए

मुझे देख तेरे भी कभी लब खिल जाएं

 

Baahon mein teri rehne ki saza mil jaye

Mujhe dekh tere bhi kabhi lab khil jayein 

 

Moon Shayari

 

आसमान में देखो निकल आया मून है

तुझे देख मेरे दिल को मिल जाता सुकून है।।

हाँ मैं चाहता हूं तुम्हें पाना ताउम्र के लिए

मैं तेरे चाँद जैसे हुस्न को अपने पास रखना चाहता हूं

गली में निकलती हो तो

धड़कने थम जाती है तेरे चाहने वालों की

कभी गौर करके देखो तो

कितनी लंबी लाइन लगी है तेरे दीवानों की

Moon shayari chand shayari

 

तेरे इस हुस्न में कुछ तो बात है

तेरी इस शक्ल में कुछ तो खास है

जब निकलती हो तो ना जाने

कितनों को घायल करती हो

तेरी चाँद जैसी चमकती सूरत का

बताओ तो क्या राज़ है

हुस्न की परी तुम लगती बहुत कामाल हो

मेरी हसीना चाँद से भी बेमिसाल हो

तेरा मुझसे कुछ इस तरह का नाता है

जैसे आसमान में चाँद निकल आता है

तुझे देख कर दिल खुश हो जाता है

तुझे पाने का ख्वाब जाग जाता है।।

moon shayari in hindi

 

चाँद की चाँदनी जब तेरे जिस्म पर आती है

ऐसा लगता है जैसे कुदरत तुम्हें खुद ही सजाती है।।

चमकते चाँद की चांदनी में तुम मेरी बाहों में सो जाना

भूल जाना सब कुछ एक रात के लिए तुम मेरी हो जाना

तेरे हुस्न की तारीफ के लिए शब्द कम पड़ जाते हैं

फिर अंत में हम तुझे चाँद से भी बेहतर बताते हैं

hindi moon chand shayari

 

मुझे तुम सीने से लगा कर

मुझे तुम सुकूँ दे जाओ

मैं बन जाता हूँ आकाश तेरा

तुम मेरा मून बन जाओ

चांदनी इस रात में सितारे भी टिमटिमा रहे हैं

हम अपने पास बैठे चाँद को निहारे जा रहे हैं।।

मून निकल आया आसमान में तो

मैं सोने को जा रहा था

सुनाई दी एक आवाज़ गली में तो

देखा मून गली से निकले जा रहा था

 

Shayari On Moon

shayari on moon
shayari on moon

 

चाँद पर एक दुनियाँ बसाते हैं

चलो हम इस दुनिया से दूर चले जाते हैं।।

 

Chand par ek duniya basate hai

Chalo hum is duniya se door chale jate hai

 

चाँद चमकता आसमान में

वो देख कर नीचे जल जाता है

जब वो तेरा चाँद से बेहतर

चेहरा धरती पर पाता है।।

 

Moon chamakta aasman mein

Woh dekh kar niche jal jata hai

Jab woh tera chand se behtar

Chehra dharti par pata hai

shayari on chand photo
shayari on chand photo

कितना ना समझ है वो चाँद भी

जो अकेला होकर भी खुद को खूबसूरत समझता है

 

Kitna na samjh hai woh chand bhi

Jo akela hokar bhi khud ko khubsurat samjhta hai

 

Moon chand shayari

 

मेरे सर पर चढ़ा है तुझे पाने का जुनून

तेरा चेहरा ऐसे जैसे आसमान में चमकता Moon

 

Mere sar par chadha hai tujhe paane ka junoon

Tera chehra aise jaise aasman me chamkta moon

 

गया छत पर तो देखा निकल चाँद आया है,

मेरी महबूबा के चेहरे पर भी आज नूर छाया है।।

 

Gaya chhat par toh dekha nikal chand aaya hai

Meri mehbooba ke chehre par bhi aaj noor chhaya hai

 

moon shayari in hindi

 

तेरे दिल की बात आंखों से ही जान लेता हूँ

चाँद सा चमकता हुस्न तेरा अंधेरे में भी पहचान लेता हूँ

 

Tere dil ki baat aankhon se hi jan leta hu

Chand sa chamkta husn tera andhere me bhi pehchan leta hu

 

उसके चेहरे को देख सुकून मिल जाता है

उसको पाने का जुनून जाग जाता है।।

 

Uske chehre ko dekh sukoon mil jata hai

Usko paane ka junoon jaag jata hai… 

 

Eid Ka Chand Shayari

 

मुझे ईद को कुछ इस तरह से मनाना है

तेरे चाँद से हुस्न को सीने से लगाना है

 

Mujhe eid ko kuch is tarah se manana hai

Tere chand se husn ko seene se lagana hai

 

आप इधर आए उधर दीन और ईमान गए

ईद का चाँद नज़र आया तो रमज़ान गए

शुजाख़ावर

 

Aap idhar aaye udhar deen aur imaan gaye

Eid ka chand nazar aaya toh ramzan gaye

Shuzakhawr 

 

ईद का दिन खुशियां और बाहार ला रहा है

जो हो गया था ईद का चाँद कभी

बरसों बाद आज मिलने को आ रहा है 

 

Eid ka din khushiyan aur bahaar la raha hai

Jo ho gaya tha eid ka chand kabhi

Barso baad aaj milne ko aa raha hai

 

eid ke chand par shayari

 

ईद चाँद जैसे मुखड़े वाली

सीधी साधी भोली भाली,

है मेरी जान मुझको

मेरी जान से भी प्यारी

तेरा हुस्न ऐसे जैसे ईद का चाँद निकल आया हो

ऐसा नूर तेरे हुस्न पर जैसे इसमें चाँद ही समाया हो

ईद के चाँद कैसे तुम जगमगा रही हो

अपने हुस्न से मुझे तुम तड़पा रही हो

 

ईद के चाँद पर शायरी

 

आज चाँद ईद का निकल आया है

बड़ी दुआएँ करके उसको पाया है।।

ईद के दिन ही सही तुम दीदार तो दे जाना

थोड़ा ही सही मगर प्यार तो दे जाना।।

ईद का चाँद एक आसमान में जगमगा रहा है

और एक चलते हुए हमारे पास आ रहा है।।

 

Love Chand Par Shayari

 

तुम जो मान नहीं रहे

कुछ इस तरह से मनाएं क्या 

मोहब्बत में हम तेरे लिए

चाँद तोड़कर ले आएं क्या

 

Tum jo maan nahi rahe

Kuch is tarah se manaye kya

Mohabbat me hum tere liye

Chand todkar le aaye kya

 

तुमसे मोहब्बत का

कुछ यूं इज़हार करूँगा

तेरे चाँद से हुस्न को बाहों में

छुपा तुम्हें प्यार करूँगा।।

 

Tumse mohabbat ka

Kuch yun izhaar karunga

Tere chand se husn ko baahon mein

Chhupa tumhe pyar karunga

 

Ranjhe mohabbat mein aksar chand tod late hai

Aur hum hai ki us chand ko hi pana chahte hai

 

रांझे मोहब्बत में अक्सर चाँद तोड़ लाते हैं

और हम हैं कि उस चाँद को ही पाना चाहते हैं

 

mohabbat chand shayari

 

प्यार है तुमसे कितना यह तुमको कैसे बताएं

तुम कहो तो आसमान से चाँद तोड़कर लाएं

 

Pyar hai tumse kitna yeh tumko kaise batayein

Tum kaho toh aasman se chand todkar laayein 

 

Tum chand ki chandni se jayada chamkti ho

Mere dil mein apni muskan se utarti ho

 

तुम चाँद की चांदनी से ज्यादा चमकती हो

मेरे दिल में अपनी मुस्कान से उतरती हो

 

Chand shayari love

 

Teri surat ko dekh kar dil mein kuch kuch hone lagta hai

Mera dil tere pyar ko paane ke liye dua karta hai

 

तेरी सूरत को देख कर दिल में कुछ कुछ होने लगता है

मेरा दिल तेरे प्यार को पाने के लिए दुआ करता है

 

उसके चेहरे पर था पर्दा

जैसे चाँद ने खुद को बादलों में छुपाया हो

जब पर्दा हटा चल मेरे पास आई तो

ऐसा लगा जैसे गली में चाँद उतर आया हो

 

Ramzan Chand Shayari

 

चाँद से रोशन हो रमज़ान तुम्हारा

इबादत से भर जाए रोज़ा तुम्हारा

हर नमाज़ हो क़बूल आपकी

बस यही दुआ है खुदा से हमारी

 

Chand se roshan ho ramzan tumhara

Ibaadat se bhar jaye roza tumhara

Har namaz ho qabool aapki

Bas yahi dua hai khuda se humari

 

रात को नया चाँद मुबारक

चाँद को चाँदनी मुबारक

सितारों को बुलंदी मुबारक

और आपको हमारी तरफ से

रामदान/रमज़ान मुबारक

 

Raat ko naya chand mubarak

Chand ko chandni mubarak

Sitaron ko bulandi mubarak

Aur aapko humari taraf se

Ramdan/ramzan mubarak

 

Ramzan chand shayari

 

चमकता तेरा हुस्न जैसे रमज़ान का चाँद हो

तुम कैसी भी बस मेरे दिल की जान हो

 

Chamkta tera husn jaise ramzan ka chand ho

Tum kaisi bhi bas mere dil ki jaan ho

 

पूर्णिमा के चाँद पर शायरी

 

पूर्णिमा के दिन तुम भी हुस्न से पर्दा हटा देना

छुपा कर रखा चाँद सा चेहरा हमें दिखा देना

 

Purnima ke din tum bhi husn se parda hata dena

Chhupa kar rakha chand sa chehra hume dikha dena

 

पूर्णिमा की आज रात आयी है

चारों तरफ रोशनी चली आयी है

मगर दिखाई नहीं दे रही चाँद सी दिखने वाली

हमने तो उसको देखने के लिए नज़रें बिछाई हैं

 

Purnima ki aaj raat aayi hai

Charo taraf roshni chali aayi hai

Magar dikhayi nahi de rahi chand si dikhne wali

Humne toh usko dekhne ke liye nazrein bachhayi hai

 

Purnima chand shayari

 

पूर्णिमा के दिन पूरा चाँद निकल आता है

चारों तरफ अंधकार को खत्म कर रोशनी फैलाता है

 

Puranima ke din poora chand nikal aata hai

Charo taraf andhkar ko khatam kar roshni failata hai

 

Karwa Chauth Chand Shayari

 

ईद पर किसी का और करवाचौथ पर किसी और का हो जाता है

चाँद को खबर नहीं के उसका पृथ्वी पर बंटवारा हो जाता है

 

Eid par kisi ka aur karwa chauth par kisi aur ka ho jata hai

Chand ko khabar nahi ke uska prithvi par batwara ho jata hai

 

उसके चेहरे की चमक के सामने सादा लगा 

आसमाँ पे चाँद पूरा था मगर आधा लगा

– इफ़्तिख़ार नसीम

 

Uske chehre ki chamak ke samne saada laga

Aasman pe chand poora tha magar aadha laga

 

Karwa Chauth Chand Shayari

 

ए चाँद अब निकल भी आओ

तुम ऐसे हम को ना सताओ

इंतेज़ार में तेरे बैठे हैं सब

जल्दी से तुम निकल आओ

 

Ae chand ab nikal bhi aao

Tum aise hum ko na satao

Intezaar mein tere bethe hai sab

Jaldi se tum nikal aao

 

Last Lines Chand Shayari

 

दोस्तों यह थी चाँद पर शायरी जिसमें हम विभिन्न प्रकार की Chand Shayari Collection को आपके साथ साँझा किया है। यदि आपको यह शायरी पसंद आती है तो आप इस चाँद शायरी को अपने प्रेमी, प्रेमिका और दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करें।

नीचे दिए कमेंट बॉक्स में कमेंट करके ज़रूर बताएं कि यह शायरी आपको कैसी लगी ऐसी ही और शायरी भी हम आपके लिए लाते रहेंगे।

Read More👇