50+ Best Bulleh Shah Shayari In Hindi (2022) | Bulleh Shah Quotes

Bulleh Shah Shayari in hindi

दोस्तों आज हम आपके साथ Bulleh Shah Shayari In Hindi को सांझा करने वाले हैं, इनके द्वारा बहुत सारी शायरी और किताबें लिखी गयी हैं जिनमें से कुछ मशहूर शायरियों को हम आपके साथ शेयर करेंगे। इसमें Bulleh Shah Shayari, Bulleh Shah Quotes In Hindi, Bulleh Shah Quotes On Life & Bulleh Shah Poetry In Hindi आपके देखने को मिलेगी।।

हम उम्मीद करते हैं कि Bulleh Shah Shayari संग्रह आपको पसंद आएगा, यदि आप Bulleh Shah Shayari In Punjabi पढ़ना चाहते हैं तो यहां क्लिक करके देख सकते हो।

 

Bulleh Shah Shayari

Bulleh Shah Shayari hindi
Bulleh Shah Shayari in hindi

छुप छुप जीना और मरना क्या

ऐसे होगा क्या और करना क्या

जब इश्क़-ए-समंदर में डूब जाना

फिर डूबना क्या ओर तरना क्या।।

 

ऐथे कइयाँ नु मान वफ़ा दा

ते कइयाँ नु मान अदावां दा

एसी पीले पत्ते दरखतां दे

सानू रहन्दा खौफ हवावां दा।।

 

Bulleh Shah Shayari in hindi images
Bulleh Shah Shayari in hindi

असी नाज़ुक दिल दे बंदे हाँ

साडा दिल ना यार दुखाया कर

ना झूठे वादे किए कर

ना झूठी कसमें खाया कर।।

 

पड़ पड़ आलम फ़ाज़िल होया

कदे अपने आप नु पढेया ही नहीं

जा जा वड़दा मंदिर मसीतां

कदे अपने अंदर तू वड़ेया ही नहीं।।

 

कोई मुल्ल नहीं जग ते रिश्तेयां दा

यह छूटते छूटते छूट जाते

कभी प्यार नहीं खत्म होता दिलों से

साँस खतम होते होते हो जाते।।।

 

Bulleh Shah Quotes In Hindi

Bulleh Shah Shayari hindi photo
Bulleh Shah Shayari in hindi

हो यार, ओर दे हार तुमको

उस हार को हार न समझना

बुल्ले शाह चाहे यार कितना भी गरीब हो

उसकी संगति को बेकार न समझना।।

 

दिल को लग जाएं रोग तो क्या करें

किसी की याद में आंखें रोये तो क्या करें

हम को तो मिलने की उम्मीद रहती है हर वक़्त

यदि यार ही भूल जाएं तो क्या करें।।

 

Bulleh Shah Shayari In Hindi

जिस यार दे यार हज़ार होण

उस यार नु यार ना समझीं

जेहड़ा हद्द तो बढ़ कर प्यार करे

उस प्यार को प्यार ना समझीं।।

 

चादर मैली और साबन थोड़ा

बैठ के किनारे ते धोवेंगा

दाग नहीं छूटने पाप वाले

धोएगा फिर रोयेंगा।।

 

Baba Bulleh Shah Shayari In Hindi

कुछ शोंक था यार फकीरी का

कुछ इश्क़ ने जग जग रोल दिया

कुछ यारां कसर ना छोड़ी है

कुछ ज़हर रकीबं घोल दिया।।

 

Spiritual Bulleh Shah Quotes

bulleh shah shayari hindi
Bulleh Shah Shayari in hindi

दिल दे गुंझल खोल वे माही

तू वी ते कुझ बोल वे माही

गलियां दे विच रुलदे पए हा

हुंदे सी अनमोल वे माही।।

 

जिस नु लग्गे चोट इश्क़ दी

उसदा हाल ते जाने रब्ब

पड़ नमाज़ तू इश्क़ वाली

बाकी कूर कहानी सब।।

 

Bulleh Shah Shayari Hindi

उस नु कदे ना माही मिलया

जेहड़ा दो घरां दा सांझा

इक पासे रख नी हीरे

खेड़े रख या राँझा।।

 

बुल्ले शाह सब झूठ को देखें

सच है एक ख़ुदाई

रब्बा ना मिला इस दुनियां में

पूरी उम्र गवाई।।

 

Deep Bulleh Shah Quotes In Hindi

इश्क़ की सूली वही चढ़ा

जिसने अपनी मैं को पढ़ा

नफ़्स अपने से वही लड़ा

जो इश्क़ की आग में सड़ा।।

 

किवें पैरी घुँघरू बनिए

सानू नचन दा नहीं चज

साडा यार मना दे मुर्शदा

तू रख ले साड़ी लज़्ज़।।

 

Bulleh Shah Quotes On Life

 

रौनक मैले रुक जांदे ने

साह जिस वेले मुक जांदे ने

जेहड़े कहन्दे जान तो प्यारा

लोड पवे ते लुक जांदे ने।।

 

जग तो तेनु कुझ नहीं लभना

सोना ऐथे भूल जावेंगा

उठ जा हुन वी सजदा कर ले

काफ़िर मरिया रूल जावेंगा।।

 

Bulleh Shah Quotes

अलिफ़ अग्ग लगी विच सीने दे

सीना तप के वांग तंदूर होया

कुझ लोकां दे तानेयाँ मार दित्ता

कुझ सज्जन अखियां तो दूर होया।।

 

इक शीशा लिया था यार देखन लयी

ओह वी ज़मीन ते डिग्ग चूर होया

बुल्ले शाह लोकी हँस के यार मना लैंदे

ते साडा रोना वी ना मंजूर होया।।

 

Love Bulleh Shah Quotes In Hindi

कोई मुल्ल नहीं जग ते रिश्तेयां दा

एह छुटदे छुटदे छूट जांदे

कदी प्यार नहीं मुक़दा दिलां विचों

साह मुक़दे मुक़दे मुक जांदे।।

 

Baba Bulleh Shah Quotes In Hindi

 

बुल्ले शाह रंग फिक्के हो गए

तेरे बाजों सारे

तू तू करके जित्त गए सी

मैं मैं करके हारे।।

 

किया सवाल मियां मजनू से

तेरी लैला रंग की काली है

दिया जवाब मियां मजनू ने

तेरी आंख ना देखने वाली है

और छोड़ बुल्लेया दिल दे दिया

अब क्या गोरी क्या काली है।।

 

Bulleh Shah Shayari Quotes

उच्चे महलां दे विच बह के

घर आखन खंडरां नू

मल मल साबन ज़हर स्वारन

लग्गे ताले अंदरां नू।।

 

पहाड़ों पर चढ़ते सैलाब देखे

काँटों में रुलते गुलाब देखे

दौलत पर इतना मान न कर

सड़कों पर रुलते नवाब देखे।।

 

Bulleh Shah Shayari Hindi

कभी महक ना जाती फूलों से

फूल सूखते सूखते सूख जाते

कोई अहमियत ना जाने प्यार की

दिल टूटते टूटते टूट जाते।।

 

Bulleh Shah Poetry

 

दुनियादारी में हुआ मशरूफ जो

उम्र ज़ाया उस नादान की

रहमत रब की उस पर नहीं होती

जिसने अच्छाई ना बीच जहां की।।

 

तू क्यों ढावें मेरी मस्जिद

मैं क्यों तोड़ा तेरे मंदिर नू

आ जा दोनों बैठ कर पढ़ें

एक दूजे के अंदर नू।।

 

Bulleh Shah Poetry In Hindi

जात पात की बात ना कर तू

जात भी ख़ाक तू भी खाक

जात सिर्फ खुदा की ऊंची

बाकी सब खाक खाक।।

 

इश्क़ जिन्ना दे हड्डी रचैया

ओ किथे भुलदे बुलया

जिहना रब्ब मनया इश्क़ नहीं

ओ नहीं जांदा भुल्लेया।।

 

Bulleh shah Shayari in hindi

अगर रब्ब मिलता नहाने धोने से

तो मिलता मेंढक और मछियां

अगर रब्ब मिलता मंदिर मस्जिद

तो मिलता चम्म चडीकियाँ 

अगर रब्ब मिलता जंगल बेले

तो रब्ब मिलता गइयाँ बछियां

बुल्ले शाह रब्ब उनको मिलता

नियता जीना दिया सचियाँ।।

 

Baba Bulleh Shah Poetry In Hindi

 

पत्थर कभी गुलाब नहीं होते

कोरे कागज किताब नहीं होते

अगर लगा लें यारी बुलया

फिर यारों से हिसाब नहीं होते।।

 

बुलया किसीके झूठे इश्क़ से

हमने इश्क़ खुदा का लगाया है

और जिसने लगाकर पीछे नहीं हटना

हमने ऐसा यार बनाया है।।

 

Bulleh Shah Poetry Hindi

दिल दा की हाल सुनाएं

विच हिज़्र दे घुलदी जावं

तेरी याद विच पागल हो के

अपना आप भी भुलदी जावां।।

 

हमने लगाई ईमान की बाज़ी है

सज्जन फिर भी ना हुआ राजी है

फतवे लगए कुफ़र के काज़ी है

आखन हकीकी नहीं इश्क़ मजाज़ी है।।

 

Bulleh shah shayari in hindi

बहुत बेदरदी यार है आखिर में

बेवफाई कर भी तो जाते हैं

खा के कसमें पाक कुरान की

बाज़ी इश्क़ की हार भी तो जाते हैं

चलते साथ यार बन कर

सांप के जैसे लड़ भी तो जाते हैं

क्या हुआ बुल्ले शाह हमारा यार छोड़ गया

लोगों के मर भी तो जाते हैं।।

 

Bulleh Shah Status

 

हम जोगी इश्क़ हज़ूर के

हमारा बहुत मुश्किल जोग

हमारी ज़िंदगी गम में गुज़रती

हमें लगे बहुत ही रोग।।

 

यहां कुछ को मान वफ़ा का

और कुछ को मान अदाओं का

हम पीले पत्ते पेड़ों के

हमें रहता खौफ हवाओं का।।

 

Bulleh shah shayari in hindi status

नहीं बीतता वक़्त बिछोडे का

बिन यार गुज़ारा कौन करे

दुनियाँ से किनारा हो सकता है

यारों से किनारा कौन करे।।

 

बुरे लोग में ढूंढने निकला बुरा ना मिलया कोई

अपने अंदर झांक कर देखा मुझसे बुरा ना कोई।। 

 

गुस्से में ना आया करो

ठंडा करके खाया करो

दिन तुम्हारे भी बदल जाएंगे

ऐसे ना घबराया कर।।

 

Bulleh shah shayari in Hindi status

जीवन जीवन हर कोई आखे

मौत खड़ी सिर उत्ते

तेरे नालों लाख लाख सोहने

खाक अंदर जा सुत्ते।।

Scroll to Top