बिंदिया/ बिंदी पर शायरी | 20+ Best Bindiya/ Bindi Shayari In Hindi 

Friends, we have written Bindi Shayari in this article today. The dot of the forehead is a part of the makeup of the Indian woman, which makes her look more beautiful. We hope you will like this Bindi Shayari Collection. You can share this poetry with your friends and your lover or girlfriend.

 

Bindi Shayari In Hindi | Shayari On Bindi

 

Bindi Shayari

बिंदी शायरी
बिंदी शायरी

माथे पर बिंदी लगा कर आई है

वो बहुत दिन बाद खुद को सज़ा कर आई है

 

Maathe Par Bindi Lagaa Kar Aayi Hai

Woh Bahut Din Baad Khud Ko Sajaa Kar Aayi Hai

 

 

तेरे कानों के झुमके माथे की बिंदी कमाल लगती है

तू जब चलती है नज़रें झुका कर बवाल लगती है

 

Tere Kaano Ke Jhumke Mathe Ki Bindi Kamaal Lagti Hai

Tu Jab Chalti Hai Nazre Jhuka Kar Bawaal Lagti Hai

 

 

तुम्हें देख तेरे दीवाने हो गए हम

तेरा हुस्न बवाल और बेमिसाल है

तेरे माथे पर लगी बिंदिया ने

कुछ ऐसे फेंका हम पर जाल है

 

Tumhe Dekh Tere Deewane Ho Gaye Hum

Tera Husn Bawal Aur Bemisaal Hai

Tere Maathe Par Lagi Bindiya Ne

Kuch Aise Fenka Hum Par Jaal Hai

 

 

Bindi Shayari In Hindi | Tareef Shayari

 

bindi shayari

सिर पर तेरे दुप्पटा और माथे पर बिंदी

हल्की सी मुस्कराहट और शर्माती हुई आंखें

इन अदाओं से मुझे दिवाना बना रही हो

दूर खड़ी रह कर मुझे बहका रही हो

 

Sir Par Tere Duppata Aur Maathe Pae Bindi

Halki Si Muskrahat Aur Sharmati Huyi Aankhen

In Adaaon Se Mujhe Deewana Bana Rahi Ho

Door Khadi Reh Kar Mujhe Behka Rahi Ho

 

Shayari On Bindi

बिंदिया पर शायरी
बिंदिया पर शायरी

तू जब रेड सूट पहन कर बिंदी लगाती है

हमारे दिल को तू अपना दीवाना बनाती है

कभी लगता है तू खुद को मेरे लिए सजाती है

जब तू हल्का सा मुस्करा कर पास से जाती है

 

Tu Jab Red Suit Pehan Kar Bindi Lagati Hai

Humare Dil Ko Tu Apna Deewana Banati Hai

Kabhi Lagta Hai Tu Khud Ko Mere Liye Sazati Hai

Jab Tu Halka Sa Muskura Kar Paas Se Jaati Hai

 

 

कानो में झुमके और माथे पर बिंदी

वो लगा कर आती है

वो जब भी मेरे सामने आती है

खुद को सजा कर आती है

 

Kaano Mein Jhumke Aur Maathe Par Bindi

Wo Lagaa Kar Aati Hai

Woh Jab Bhi Mere Saamne Aati Hai

Khud Jo Sajaa Kar Aati Hai

 

Bindi Shayari Hindi | Bindi Shayari For Girlfriend

 

जब तुम अपने माथे पर बिंदी लगाती हो

तो पहले से भी ज्यादा स्वर जाती हो

 

Jab Tum Apne Maathe Par Bindi Lagati Ho

Toh Pehle Se Bhi Jyada Sawar Jaati Ho

 

Bindi Shayari Hindi

तेरी बिंदी इशारे कर के हमें बुलाती है

तेरे माथे की बिंदी हमें पागल बनाती है

 

Tere Bindi Ishare Kar Ke Humein Bulati Hai

Tere Maathe Ki Bindi Humein Pagal Banati Hai

 

 

मै अपना सब कुछ खोने लगता हूँ

तुझे देखते ही तेरा होने लगता हूँ

जब याद आती है तेरी बहुत ज्यादा

तो तेरी बिंदी को याद करके सोने लगता हूँ

 

Main Apna Sab Kuch Khone Lagta Hu

Tujhe Dekhte Hi Tera Hone Lagta Hu

Jab Yaad Aati Hai Teri Bahut Jyada

To Teri Bindi Ko Yaad Kar Sone Lagta Hu

 

बिंदिया पर शायरी | Bindi Shayari

 

Shayari On Bindi, Bindi Shayari
Bindi shayari

तेरे नाम की बिंदी लगा कर जब सज़ जाती हूँ

तब तुझे दिखाने मै तेरे सामने आती हूँ

तुम जितना चाहे रहो मुझसे दूर दूर

मै तुझे हमेशा अपने करीब पाती हूँ

 

Tere Naam Ki Bindi Lagaa Kar Jab Sazz Jaati Hu

Tab Tujhe Dikhane Main Tere Samne Aati Hu

Tum Jitna Chaahe Raho Mujhse Door Door

Main Tujhe Humesha Apne Kareeb Paati Hu

 

Bindiya Shayari

उसके हुस्न पर बिंदी कुछ ऐसे लगती है

जैसे दिन की रोशनी में कोई चाँद निकल आया हो

 

Uske Husn Par Bindi Kuch Aise Lagti Hai

Jaise Din Ki Roshni Main Koi Chand Nikal Aaya Ho

खुद को स्वार कर वो मेरे सामने आयी है

आज चाँद के जैसा चेहरा चमक रहा है

उसने अपने माथे पर बिंदी लगाई है

 

Khud Ko Sawaar Kar Woh Mere Samne Aayi Hai

Aaj Chand Ke Jaise Chehra Chamak Raha Hai

Usne Apne Maathe Par Bindi Lagayi Hai

 

Read More:

सर्दी पर शायरी

चाय पर शायरी

झुमके पर शायरी

Leave a Comment