50+ मतलबी शायरी | Matlabi Shayari | Best Matlabi Sher

Matlabi Shayari: दोस्तों loyal shayar के आज के इस ब्लॉग में हम आपके लिए मतलबी शायरी के संग्रह को लेकर हाज़िर हुए हैं। यहाँ मतलबी शायरी लिखी गयी है, जो मतलबी लोगों और मतलबी दोस्तों के रूप को दिखाती है।

 

आप इस शायरी को अपने प्रेमी-प्रेमिका दोस्तों और रिश्तेदारों से शेयर कर सकते हो। 

 

Matlabi Shayari | Matlabi Dost Shayari | Matlabi Duniya Shayari | Matlabi Logg Shayari

 

Matlabi Shayari in Hindi

 

1.Matlabi Shayari

Matlabi Shayari Duniya

 

शायर बनने के लिए कुछ खास नहीं चाहिए

बस एक यार चाहिए वो भी मतलबी।।

Shayar Banne Ke Liye Kuchh Khaas Nahi Chahiye

Bas Ek Yaar Chahiye Woh Bhi Matalbi।।

 

2.Matlabi Shayari

जैसे तुमने भुलाया मुझे, मै भी तुझे भुला दूंगा

हम इस खेल के पक्के खिलाड़ी नहीं है

हमें मतलबी होने मै थोड़ा वक्त लगेगा

Jaise Tumne Bhulayaa Mujhe, Mai Bhi Tujhe Bhula Dunga

Ham Es Khel Ke Pakke Khilaadi Nahi Hai

Hume Matalbi Hone Mai Thoda Waqt Lagega

 

3.Matlabi Shayari

इस मतलबी दुनिया में कोई साथ नहीं देता

हर कोई ठुकरा जाता है

पहले तो कहते हैं हम तुम्हारे ही है

मतलब निकाल बेवफा हो जाता है

Es Matalbi Duniya Mein Koi Saath Nahi Deta

Har Koi Thukra Jaata Hai

Pahle To Kahte Hain Hum Tumhare Hi Hai

Matalab Nikaal Bewafa Ho Jaata Hai

 

4.Matlabi Shayari

तुम हो बेवफा,

वफ़ा की एक आस है हम

सारी दुनिया मतलबी,

बेमतलब का इश्क़ करके

रच रहे इतिहास है हम

Tum Ho Bewafa,

Wafa Ki Ek Aas Hai Hum

Saari Duniyaa Matalbi,

Bematalab Kaa Ishk Karke

Rach Rahe Itihas Hai Ham

 

5.Matlabi Shayari

Matlabi Shayari Dost

 

मतलब का रिश्ता था मतलब निकला तो टूट गया

हम वफादार रहे, उसने बेवफाई की तो साथ छुट गया

Matalab Kaa Rishta Tha Matlab Nikla To Tutt Gaya

Ham Wafadar Rahe, Usne Bewafai Ki To Saath Chhut Gaya

 

6.Matlabi Shayari

मेरे दिल के दरवाजे को खटखटाया था

उसने मेरे सीने में अपना घर बनाया था

जाने का रास्ता था दिल में बाहर आने का नहीं

इस लिए वो दिल तोड़ कर बाहर आया था

Mere Dil Ke Darwaje Ko Khatakhtaya Tha

Usne Mere Seene Mein Apna Ghar Banaya Tha

Jaane Kaa Raasta Tha Dil Mein Bahar Aane Ka Nahi 

Es Liye Woh Dil Todd Kar Bahar Aaya Tha

 

7.Matlabi Shayari

बेमतलब के उसको दिल में बसाया था

हमने उसे बिना किसी मतलब चाहा था

उसने हमारे इश्क़ का फायदा उठाया था

हमें बर्बाद कर किसी और को अपना बनाया था

Bematalab Ke Usko Dil Mein Basaaya Tha

Humne Usey Bina Kisi Matlab Chaaha Tha

Usne Humare Ishk Ka Fayeda Uthaya Tha

Humein Barbad Kar Kisi Aur Ko Apna Banaya Tha

 

8.Matlabi Shayari

वो कहती थी तुझसे इश्क़ है

बेवज़ह, बेमतलब, बेमिसाल

अपनी ख्वाइशें बता बता कर

उसने कर दिया हमारा बुरा हाल

Vo Kahti Thi Tujhse Ishk Hai

Bewajah, Bematlab, Bemisaal

Apni Khawaishe Bataa Bataa Kar

Usne Kar Diyaa Hamara Bura Haal

 

9.Matlabi Shayari

उसका यह कहना था

के उसने मेरे दिल में रहना था

बाद में पता चला कि

उसने मतलब निकाल छोड देना था

Uska Yeh Kahna Tha

Ke Usne Mere Dil Mein Rahna Tha

Baad Mein Pata Chala Ki

Usne Matlab Nikaal Chhod Dena Tha

 

Matlabi Shayari

 

10.Matlabi Shayari

Matlabi Shayari

 

मेरे दिल के अंदर गेहराई में उतर गया

वो मेरी साँसों और परछाई में उतर गया

जिसने किये थे कभी ना छोड़ने के वादे

मुझसे अच्छा मिला उसे तो वो मुक्कर गया

Mere Dil Ke Andar Gehrai Mein Utar Gaya

Vo Meri Saanson Aur Parchhai Mein Utar Gaya

Jisne Kiye The Kabhi Naa Chhodne Ke Vaade

Mujhse Achha Milaa Use To Vo Mukkar Gaya

 

11.Matlabi Shayari

दिल के अंदर उसने आग लगाई थी

वो दिन रात हमारे ख्यालों में आई थी

उसका हल्के से मुस्कराना हमारी जान ले गया

उसने हमें बर्बाद करने की तरकीब बनाई थी

Dil Ke Andar Usne Aag Lagayi Thi

Vo Din Raat Humare Khyaalon Mein Aayi Thi

Uska Halke Se Muskrana Hamari Jaan Le Gaya

Usne Humein Barbaad Karne Ki Tarqeeb Banayi Thi

 

12.Matlabi Shayari

आँखों में देख हमने उसे जान लिया था

वो बेवफा है पहचान लिया था

फिर भी चुप रहे उसका मतलब निकल जाने तक

उसे हमेशा खुश रखने का वादा जो किया था

Aankhon Mein Dekh Humne Usey Jaan Liya Tha

Vo Bewafa Hai Pahchaan Liya Tha

Phir Bhi Chup Rahe Uska Matalab Nikal Jaane Tak

Usey Humesha Khush Rakhne Ka Vaadaa Jo Kiya Tha

 

13.Matlabi Shayari

मेरे सीने में धड़कता दिल टूट चुका था

जिसके लिए धड़कता था उसका साथ छूट चुका था

जिसने हमें इश्क़ का मतलब सिखाया था

उसने छोड़ हमें धोखा क्या होता है बताया था

Mere Seene Mein Dhdaktaa Dil Tutt Chuka Tha

Jiske Liye Dhdaktaa Tha Uska Saath Chhut Chuka Tha

Jisne Hamein Ishk Ka Matlab Sikhaya Tha

Usne Chhod Humein Dhokha Kya Hota Hai Bataaya Tha

 

14.Matlabi Shayari

मै उसे कहता था कि तुम मेरी दुनिया हो

दुनिया मतलबी होती है वो बताती थी

जब छोड़ दिया उसने तो एहसास हुआ

वो अपने बेवफा होने के बारे में बताती थी

Main Usey Kehta Tha Ki Tum Meri Duniya Ho

Duniya Matlabi Hoti Hai Vo Bataati Thi

Jab Chhod Diya Usne To Ehsaas Hua

Vo Apne Bewafa Hone Ke Baare Mein Batati Thi

 

15.Matlabi Shayari

मतलबी शायरी

 

मतलब निकला तो वो दोस्त छोड़ गए

जो कहा करते थे तेरे लिए जान हाज़िर है

Matlab Niklaa To Vo Dost Chhod Gaye

Jo Kaha Karte The Tere Liye Jaan Haazir Hai

 

16.Matlabi Shayari

मतलब की दुनिया में जिया नहीं जाता

बेवफाओं से इश्क़ अब किया नहीं जाता

शराब पी पी कर बहुत जी लिया

अब यह ज़हर के सहारे जिया नहीं जाता

Matlab Ki Duniya Mein Jiya Nahi Jaata

Bewafaon Se Ishk Ab Kiya Nahi Jaata

Sharab Pee Pee Kar Bahut Ji Liya

Ab Yeh Zahar Ke Sahare Jiya Nahi Jaata

 

17.Matlabi Shayari

तुम मेरी जान मुझे अपना जानू बताती थी

वो बेवफा कुछ ऐसे अपनी बेवफाई को छुपाती थी

Tum Meri Jaan Mujhe Apna Jaanu Bataati Thi

Vo Bewafa Kuch Aise Apni Bewafai Ko Chhupati Thi

 

18.Matlabi Shayari

मतलब की दुनिया में हमें रहना नहीं आता

मतलब के लिए किसी के दिल से खेलना नही आता

Matlab Ki Duniya Mein Humein Rahnaa Nahi Aata

Matlab Ke Liye Kisi Ke Dil Se Khelna Nahi Aata

 

19.Matlabi Shayari

मतलब की दुनिया में थोड़ा तेज़ हो जाओ

शरीफ लोगों का अक्सर लोग फायदा उठा लेते हैं

Matlab Ki Duniya Mein Thoda Tez Ho Jaao

Sharif Logon Ka Aksar Logg Fayeda Utha Lete Hain

 

20.Matlabi Shayari

Matlabi Shayari Image

 

किताबें पढ़ते रहे उम्र भर कभी वो ज्ञान ना मिला

जो मतलब के लिए ज़िंदगी में आये लोग दे गए

Kitaaben Padhte Rahe Umar Bhar Kabhi Vo Gyaan Naa Milaa

jo Matalb Ke Liye Zindgi Mein Aaye Log De Gaye

 

21.Matlabi Shayari

दुनिया भरी पड़ी है मतलबी लोगों से साहब

पहले दिल में आते हैं और फिर तोड़ कर चले जाते हैं

Duniya Bhari Padi Hai Matalbi Logon Se Sahab

Pahle Dil Mein Aate Hain Aur Phir Todd Kar Chale Jaate Hain

 

22.Matlabi Shayari

कभी अकेले बैठ कर दिमाग चलाना

बिना मतलब के कौन है तुम्हारा अपना

पता चलेगा यहाँ सब मतलबी हैं

Kabhi Akele Baith Kar Dimaag Chalanaa

Bina Matlab Ke Kaun Hai Tumhara Apna

Pata Chalega Yahan Sab Matlabi Hain

 

23.Matlabi Shayari

मतलबी लोग तो निकल जाएंगे अपने रास्ते

रोते तो वो रह जाएंगे जिन्होंने दिल से रिश्ता निभाया है

Matlabi Log To Nikal Jayenge Apne Raste

Rote To Vo Reh Jayenge Jinhone Dil Se Rishta Nibhaya Hai

 

24.Matlabi Shayari

कांटो पर भी दोष कैसे डाले जनाब

पैर तो हमने ही रखा था वो तो अपनी जगह थे

Kaanto Par Bhi Dosh Kaise Daale Janaab

Pair To Humne Hi Rakha Tha Vo To Apni Jagah The

 

25.Matlabi Shayari

मतलबी शायरी फोटो

 

मतलबी लोगों की एक यह भी कहानी है

जिसके पास पैसा है यह दुनिया उसकी दिवानी है

Matlabi Logon Ki Ek Yeh Bhi Kahani Hai

Jiske Paas Paisa Hai Yah Duniya Uski Deewani Hai

 

26.Matlabi Shayari

मतलब से किसी को प्यार ना करना

अपने मतलब के लिए किसी का इस्तेमाल ना करना

Matlab Se Kisi Ko Pyar Naa Karna

Apne Matlab Ke Liye Kisi Ka Istemaal Naa Karna

 

27.Matlabi Shayari

वो धीरे धीरे मुझे एहसास दिलाने लगा था

जब वो मुझे छोड़ कर जाने लगा था

जिस दिन निकल गया उसका मतलब हमसे

उस दिन से वो हमें भुलाने लगा था

Vo Dhire Dhire Mujhe Ehsaas Dilaane Lagaa Tha

Jab Vo Mujhe Chhod Kar Jaane Lagaa Tha

Jis Din Nikal Gaya Uska Matlab Humse

Us Din Se Vo Humein Bhulane Laga Tha

 

28.Matlabi Shayari

वो किसी और के दीवाने होने लगे थे

उसके लिए हम बेगाने होने लगे थे

जब वो छोड़ना चाहते थे हमें तो

दूर जाने के रोज़ नए बहाने होने लगे थे

Vo Kisi Aur Ke Diwaane Hone Lage The

Uske Liye Ham Begane Hone Lage The

Jab Vo Chhodna Chahate The Hamein To

Dur Jaane Ke Roj Naye Bahaane Hone Lage The

 

29.Matlabi Shayari

दूर हो जाऊंगी तुमसे, वो यह बातें कहने लगी थी

जो रहती ना थी एक पल भी मेरे बिना

वो बहुत बहुत दिन मेरे बिना रहने लगी थी

Dur Ho Jaaungi Tumse, Vo Yah Baatein Kahne Lagi Thi

Jo Rehti Naa Thi Ek Pal Bhi Mere Bina

Vo Bahut Bahut Din Mere Bina Rahne Lagi Thi

 

30.Matlabi Shayari

हमारे दिल के दरवाजे हमेशा खुले रहेंगे

जब चाहो तुम लौट कर चले आना

आज मतलब निकाल छोड़ रहे हो तुम

जब मतलब हो फिर से लौट आना

Humare Dil Ke Darwaze Humesha Khule Rahenge

Jab Chaaho Tum Laut Kar Chale Aana

Aaj Matlab Nikaal Chhod Rahe Ho Tum

Jab Matlab Ho Phir Se Laut Aana

 

31.Matlabi Shayari

मेरे रोने पर वो भी आँसू बहाती थी

मुझे खो देने के डर से उसकी जान जाती थी

आज अचानक से कैसे बदल गयी वो

जो हमें बेमतलब बेमिसाल चाहती थी

Mere Rone Par Vo Bhi Aansu Bahaati Thi

Mujhe Kho Dene Ke Dar Se Uski Jaan Jaati Thi

Aaj Achanak Se Kaise Badal Gayi Vo

Jo Humein Bematlab Bemisaal Chahati Thi

 

32.Matlabi Shayari

जरूरी नहीं कि वो जा रही है तो बेवफा ही होगी

घर की कुछ मज़बूरियां भी रिश्ते तोड़ दिया करती है

Jaruri Nahi Ki Vo Jaa Rahi Hai To Bewafa Hi Hogi

Ghar Ki Kuchh Majbooriyan Bhi Rishte Todd Diya Karti Hai

 

Read More: Timepass shayari in hindi

Gussa Shayari in Hindi |20+ गुस्सा शायरी | प्यार में गुस्सा होना शायरी

Leave a Comment