Gussa Shayari In Hindi |20+ गुस्सा शायरी | प्यार में गुस्सा होना शायरी » Loyal Shayar

Gussa Shayari in Hindi |20+ गुस्सा शायरी | प्यार में गुस्सा होना शायरी

gussa Shayari: दोस्तों इस पोस्ट में गुस्सा शायरी हिंदी में लिखी गयी है, गुस्सा हर किसी को आता है और जब प्यार में गुस्सा हो तो इसकी बात ही अलग है प्यार में रूठना मनाना चलता रहता है और जहां प्यार होता है वहां कभी गुस्सा भी ज्यादा वक्त टिक नहीं पाता। ऐसे ही कुछ प्यार में रूठने मनाने और गुस्सा होने की शायरी आप पढोगे।

गुस्सा इस शब्द पर शायरी सुनने के लिए ? क्लिक करें

 

Gussa shayari in Hindi | Best Gussa Shayari For Love

1.Gussa Shayari

Gussa Shayari गुस्सा शायरी
Love Gussa Shayari

बात बात पर तू नाराज़ हो जाता है

और फिर कहता है कि मुझे बहुत चाहता है

गुस्सा तो मुझे भी तुम पर बहुत आता है

पर तेरा चेहरा देखते ही चला जाता है

Baat baat par tu naraaz ho jata hai

Aur fir kehta hai ki mujhe bahut chahta hai

Gussa toh mujhe bhi tum par bahut aata hai

Par tera chehra dekhte hi chalaa jaata hai

 

2.

यह प्यार वाला गुस्सा भी अजीब होता है

दोनों ऑनलाइन रहेंगे, एक दूसरे की डीपी देखेंगे

लेकिन मैसेज कोई नही करेगा

और सबसे बड़ी बात दोनों मैसेज के इंतेज़ार में होंगे

Yeh pyar wala gussa bhi ajeeb hota hai

Dono online rahenge, ek dusre ki DP dekhenge

Lekin message koi nahi karega

Aur sabse badi baat dono message ke intezaar mein rahenge

3.

मुझे तेरे गुस्से से डर नहीं लगता

तेरा गुस्सा में झेल लेती हूँ

हाँ, दिल तो दुखता है तेरे गुस्से से

लेकिन तुझे खोने के डर से चुप रहती हूँ

Mujhe tere gusse se darr nahi lagta

Tera gussa mein jhel leti hu

Ha, Dil toh dukhta hai tere gusse se

Lekin tujhe khone ke darr se chup rehti hu

 

Gussa Shayari For Girls in Hindi

 

4.

तेरे बाद जो भी रिश्ता बनेगा

उसका नाम मजबूरी है

छोड़ दो सब गुस्सा जान

क्या दूर होना जरूरी है

Tere baad jo bhi rishta banega

Uska naam majboori hai

Chhod do sab gussa jaan

Kya door hona zaruri hai

 

5.Gussa Shayari

ना दिल के बुरे हैं हम

ना कोई आदत बुरी है

बस गुस्सा ही रोक नहीं पाते

तुमसे दूर रहने की यही मजबूरी है

Naa dil ke bure hai hum

Naa koi aadat buri hai

Bas gussa hi rok nahi paate

Tumse door rehne ki yahi majburi hai

 

6.

मुझसे लड़ो झगड़ो चाहे जितना भी

लेकिन रिश्ता तोड़ मत देना

मुझ पर गुस्सा करो चाहे कितना भी

लेकिन हमें छोड़ मत देना

Mujhse laddo jhagdo chahe jitna bhi

Lekin rishta todd mat dena

Mujh par gussa karo chahe kitna bhi

Lekin humein chhod Mat dena

 

7.

गुस्सा करता हूँ तुम पर

तुमसे नाराज़ भी हो जाता हूँ

लेकिन फिर भी यकीन मानो

सिर्फ तुझे ही चाहता हूँ

Gussa karta hu tum par

Tumse naraaz bhi ho jaata hu

Lekin fir bhi yakin maano

Sirf tujhe hi chahta hu

 

8.

माना कि बहुत लड़ते हैं

लेकिन प्यार भी बहुत करते हैं

हमारे गुस्से से नाराज़ ना हो जाना

प्यार दिल से और गुस्सा ऊपर से करते हैं

Maana ki bahut ladte hai

Lekin pyar bhi bahut karte hai

Humare gusse se naraz naa ho jana

Pyar dil se aur gussa upar se karte hai

 

9.

इश्क़ में शक और गुस्सा वही लोग करते हैं

जो आपको खोने से डरते हैं

और बात बात पर वही डरते हैं

जो आपको दिल से प्यार करते हैं

Ishq mein shaq aur gussa wahi logg karte hai

Jo aapko khone se darte hai

Aur baat baat pae wahi darte hai

Jo aapko dil se pyar karte hai

 

10.Gussa Shayari

gussa shayari image
Gussa shayari imageg

तुम्हारा तो गुस्सा भी इतना प्यारा है

के जी करता है दिन भर तुमसे

झगड़ा ही करता रहूं

Tumhara to gussa bhi itna pyara hai

Ke jee karta hai din bhar tumse

Jhagda karta rahu

 

Gussa shayari for love

 

11.

प्यार लफ़्ज़ों में नहीं होता

दिल में होता है

और गुस्सा लफ़्ज़ों में होता है

दिल मे नहीं

Pyar lafzon mein nahi hota

Dil se hota hai

Aur gussa lafzon mein hota hai

Dil mein nahi

 

12.

गुस्सा आता ही नहीं तेरी किसी बात पर

ना जाने कितनी मोहब्बत हो गयी तुमसे

Gussa aata hi nahi teri kisi baat par

Naa jane kitni mohabbat ho gayi tumse

 

13.

किसी के गुस्से को उसकी नफरत मत समझो

क्योंकि गुस्सा वो ही करता है जो फिक्र करता है

Kisi ke gusse ko uski nafrat mat samjho

Kyunki gussa woh hi karta hai jo fikr karta hai

 

Pyar me gussa shayari

 

14.

बहुत गुस्सा होता है कभी कभी तुम पर

गुस्सा निकालना भी दिल चाहता है

लेकिन जब आपकी आवाज सुन लेता हूँ

तो गुस्से की जगह प्यार आ जाता है

Bahut gussa hota hai kabhi kabhi tum par

Gussa nikalna bhi dil chahta hai

Lekin jab aapki awaaz sun leta hu

To gusse ki jagah pyar aa jaata hai

 

15.Gussa Shayari

मुझे गुस्सा उन पर नहीं खुद पर आता है

के मैंने इतनी ज्यादा उन्हें मोहब्बत क्यों दी थी

Mujhe gussa un par nahi khud par aata hai

Ke maine itni jyada unhe mohabbat kyun di thi

 

16.

जैसे बिन बादल बरसात नहीं होती

जैसे बिन चाँद कभी रात नहीं होती

ऐसे ही गुस्सा छोड़ो मेरी जान

क्योंकि मरने के बाद बात नहीं होती

Jaise bin badal barsaat nahi hoti

Jaise bin chand kabhi raat nahi hoti

Aise hi gussa chhodo meri jaan

Kyunki marne ke baad baat nahi hoti

 

17.

उसके गुस्से पर भी हमें प्यार आता है

और हम यह सोच कर मुस्करा दिया करते हैं

की कोई तो है जो हम पर अपना हक जताता है

Uske gusse par bhi humein pyar aata hai

Aur hum yeh soch kar muskura diya karte hai

Ki koi to hai jo hum par apna hak jatata hai

 

18.

बदल दिए हैं हमने भी नाराज़ होने के तरीके

अब रूठने की बजाए आगे बढ़ जाते हैं

Badal diye hai humne bhi naraaz hone ke tarike

Ab ruthne ki bazaye aagay badh jaate hai

दोस्तों अगर आपको यह Gussa Shayari पसंद आई तो आप इसे अपने दोस्त, प्रमी या प्रेमिका से शेयर करें।

 

Read More: 

Alone Shayari in Hindi

50+ Killer Shayari

Leave a Comment