50+ Best तकदीर शायरी | तकदीर पर शायरी » Loyal Shayar

50+ Best तकदीर शायरी | तकदीर पर शायरी

तकदीर शायरी: यह तकदीर भी बहुत अजीब चीज़ है कोई इसे आज तक समझ ही नहीं पाया यह किस्मत कुछ ही पलों में पलट कर आसमानों में से जमीन पर पटक देती है और कुछ ही पल मैं जमीन से उठा कर आसमान पर बैठा देती आज हम इसपर ही तकदीर शायरी लेकर आये हैं।

प्यार में जब तकदीर बदल जाए तो अच्छी भली चल रही ज़िन्दगी को पटक कर रख देती है, यदि आपके साथ ऐसा हुआ है तो आप इस शायरी को खुद से जोड़ कर देख सकते हो। यहाँ लिखी गयी ज्यादातर शायरी सोशल मीडिया से ली गयी Unknown Writers की हैं।

 

तकदीर शायरी | Taqdeer Shayari

 

1. Taqdeer shayari

मंज़िल कभी थम जाने से नहीं मिलती

मुसीबतों से लड़कर रास्ते ढूंढने पड़ते हैं

Manzil kabhi tham jaane se nahi milti

Musibaton se ladkar raste dhundhne padte hai

 

2.

मुझसे बेवफाई करना

अगर तुम्हारी कोई मज़बूरी है

तो रहने दे इश्क़ करने को

यह कौनसा बहुत ज़रूरी है

Mujhse bewafai karna

Agar tumhari koi mazboori hai

Toh rehne de ishq karne ko

Yeh konsa bahut zaroori hai

 

3.तकदीर शायरी

साँसों की डोर छूटती जा रही है

किस्मत भी हमें दर्द देती जा रही है

मौत की तरफ कदम हैं हमारे

मोहब्बत भी हमसे छूटती जा रही है

Saanson ki dorr chhutti jaa rahi hai

Kismat bhi humein dard deti jaa rahi hai

Maut ki taraf kadam hai humare

Mohabbat bhi humse chhutti jaa rahi hai

 

4.

ज़िन्दगी में खुशियाँ पाना चाहते हो

तो खामोश रहिए जनाब

खुशियों को ज्यादा छोर अच्छा नहीं लगता

Zindagi mein khushiyan paana chahte ho

Toh khamosh rahiye janab

Khushiyon ko jyada chhor achha nahi lagta

 

5.Taqdeer shayari

बहुत अंदर तक जला देती हैं

वो शिकायतें जो बयान नहीं होती

Bahut andar tak jalaa deti hai

Woh shikayatein jo nayan nahi hoti

 

6.तकदीर शायरी

बस एक छोटी सी ख्वाइश है

जिन लम्हों में तुम मुस्कुराते हो

वो लम्हें कभी खत्म ना हो

Bas ek chhoti si khawaish hai

Jin lamho mein tum muskurate ho

Woh lamhe kabhi khatam na ho

 

7.

पाउँ के लड़खड़ाने पर तो सबकी है नज़रें

सर पे कितना बोझ है कोई देखता नहीं

Paun ke ladkhadane par toh sabki hai nazarein

Sar pe kitna bojh hai koi dekhta nahi

 

8.Taqdeer shayari

जब अल्लाह को किसी का

सजदा करना पसंद आ जाता है

वो खुद ऐसे असबाब पैदा

करता है के इंसान सजदा

करने पे मजबूर हो जाता है

Jab allah ko kisi ka

Sajda karna pasand aa jaata hai

Woh khud aise asabab paida

Karta hai ke insan sajda

Karne pe majboor ho jata hai

 

9.तकदीर पर शायरी

खुश रह हमेशा दुआ है मेरी

आंखों में आँसू कभी आये ना तेरी

खुशनसीब हूँ मैं के मै बेटा तेरा

तू माँ है मेरी

Khush Reh humesha dua hai meri

Aankhon mein aansu kabhi aaye naa teri

Khushnaseeb hu main ke main beta tera

Tu maa hai meri

 

Taqdeer Shayari in hindi

 

10.

अभी सूरज डूबा नहीं

ज़रा सी शाम तो होने दो

अरे वो खुद ही ऑनलाइन आएगी

पहले घर का काम तो होने दो

Abhi suraj dooba nahi

Zara si shaam toh hone do

Aray woh khud hi online aayegi

Pehle ghar ka kaam toh hone do

 

11.Taqdeer shayari

बात तो होती नहीं आजकल

पर इंसान आज भी मेरा वो सबसे खास है

Baat toh hoti nahi aajkal

Par insan aaj bhi mera woh sabse khaas hai

 

12.

ज़िन्दगी में किसी का ना होना

तो सिर्फ दर्द और तकलीफ देता है साहेब

किसी को पाकर खो देने तो

मार ही देता है जनाब

Zindagi mein kisi ka naa hona

Toh sirf dard aur taqleef deta hai saheb

Kisi ko pakar kho dene toh

Maar hi deta hai janab

 

13.तकदीर पर शायरी

मेरे रास्ते जो अलग होने लगे थे

वो हमें उस दिन से खोने लगे थे

मैं जानता था मैं बेफवा हो रहा था

पर वो भी कहाँ हमसे वफ़ा कर रहा था

Mere raste jo alag alag hone lage the

Woh hume us din se khone lage the

Main janta tha main bewafa ho raha tha

Par woh bhi kaha humse wafa kar raha tha

 

14.Taqdeer shayari

मेरे लिए रोने का उसके पास वक़्त नहीं था

मुझे खोने का उसे डर भी नही था

वो बेवफा था मैं जानता था मगर

उसे कह सकूं इतना मुझमें दम नहीं था

Mere liye rone ka uske paas waqt nahi tha

Mujhe khone ka usey darr bhi nahi tha

Woh bewafa tha main janta tha magar

Usey keh saku itna mujhme dam nahi tha

 

15.

उसकी बेवफाई को भी हँस कर जरता आया हूँ

मैं हर हाल मैं उससे प्यार करता आया हूँ

वो होते हैं बेवफा तो होते रहे जानी

मैं उससे वफ़ा की उम्मीद के साथ वफ़ा करता आया हूँ

Uski bewafai ko bhi hass kar jarta aaya hu

Main har haal main usse pyar karta aaya hu

Woh hote hai bewafa toh hote rahe jaani

Main usse wafa ki umeed ke saath wafa karta aaya hu

 

तकदीर पर शायरी | Taqdeer Shayari

 

16.तकदीर शायरी

अनकही बातें फिर आम होती रही हैं

हमारी उनसे बातें श्रयाम होती रही है

हाँ वो करते थे औरों से भी बातें लेकिन

हमसे ज्यादा उनकी बात होती रही है

Ankahi baatein fir aam hoti rahi hai

Humaari unse baatein sareaam hoti rahi hai

Haa woh karte the auron se bhi baatein lekin

Humse jayada unki baat hoti rahi hai

 

17.

वफ़ा कर वफ़ा निभा दो ना

मुझे तुम ठुकराओ ना अपना लो ना

मुझे तुम बिना सोचे अपना बना लो

मेरे दिल में तुम फिरसे समा लो ना

Wafa kar wafa nibha do na

Mujhe tum thukrao na apna lo na

Mujhe bina soche apna bana lo na

Mujhe dil mein tum firse sama lo na

 

18.

शिकायतें बहुत होती है इश्क़ मोहब्बत में मगर

उन्हें भुलाना पड़ता है

कुछ बातें कहने के लिए नहीं बनी होती 

उन्हें दिल मे दबाना पड़ता है

Shikayatein bahut hoti hai ishq mohabbat mein magar

Unhe bhulana padta hai

Kuch baatein kehne ke liye nahi bani hoti

Unhe dil mein dabana padta hai

 

19.तकदीर शायरी

उसने कहा था वो लाख दूर हो जाये पर कभी नहीं भूल पायेगा

उसने कहा था तुम इंतेज़ार करना वो एक दिन वापस लौटकर आएगा

हा मैं जानती हूँ वो आएगा और अपनी बाहों में भरकर मुझे अपना बनाएगा

Usne kaha tha woh laakh door ho jaye par kabhi nahi bhool payega

Usne kaha tha tum intezaar karna woh ek din wapas laut kar aayega

Haa main janti hu woh aayega aur apni baahon mein bharkar mujhe apna banayega

 

20.

तेरी इन झील सी गहरी नज़रों में मुझे खोने दो

इन आँखों से प्यार के दो घूँट पीने दो

मुझे तुम ज़िंदगी देदो और खुशी खुशी जीने दो

Teri in jheel si gehri nazron mein mujhe khone do

In aankhon se pyar ke do ghunt peene do

Mujhe tum zindagi dedo aur khushi khushi jeene do

 

21.तकदीर शायरीari

मुझसे दूर रहकर वो जीने लगा है

सुना है आजकल किसी और की नज़रों से पीने लगा है

Mujhse door rehkar woh jeene laga hai

Suna hai aajkal kisi aur ki nazron se peene laga hai

 

22.

हथेली की लकीरों में तू लिखता है तकदीर और खुदा कहलाता है ,

तेरे ही लिखे को निभाते हुए कोई फ़रिश्ता तो कोई हैवान बन जाता है

Hatheli ki lakeeron mein tu likhta hai taqdeer sur khuda kehlata hai

Tere hi likhe ko nibhate huye koi frishta toh koi haiwan ban jata hai

 

23.

मेरे बन्दे ! सब्र कर ,तेरे दुःख तकलीफों का इल्म है मुझ को

देख तेरी तकदीर को बनाने में लगी , मेरी सारी कायनात है

Mere bande ! Sabar kar, tere dukh takleefon ka ilam hai mujhko

Dekh teri taqdeer ko banane mein lagi, meri sari qayanaat hai

 

24.

चंद लाइनों में लिखी तकदीर के वो चंद हर्फों का खेल

कि सारी जिंदगी एक तमाशा सा बन कर रह गयी

Chand lines mein likhi taqdeer ke woh chand harfon ka khel

Ki sari zindagi ek tamasha ban kar reh gayi

 

Taqdeer Shayari In Hindi 2021

 

25.तकदीर शायरी

अरे !तकदीर के रोने तो वो रोते हैं जिन के हाथ में कलम नहीं होती ,

उठा कलम और अपनी तकदीर खुद लिखने के इल्म को हासिल कर

Aray takdeer ke rone toh woh rote hai jin ke haath mein kalam nahi hoti,

Utha kalam aur apni taqdeer khud likhne ke ilam ko hasil kar

 

26.

अपनी तख्दीर का गिला- शिकवा मैं तुझ से नहीं करूंगा मालिक ,

खुद अपनी तकदीर लिखने की , तू मुझे बस कूवत फरमा दे ..

Apni takdeer ka gilaa shikwa main tujhse nahi karunga maalik

Khud apni taqdeer likhne ki, tu mujhe bas quwwat farmaa de

 

27.तकदीर शायरी

बनती हैं और बिगडती हैं तस्वीरें भी तकदीरें भी ,

हम यहाँ नहीं तो वहां पर हैं ,हम वहां नहीं तो यहाँ पर है.

Banti hai aur bigadti hai tasveerein bhi taqdeerein bhi

Hum yaha nahi toh waha par hai, hum waha nahi toh yaha par hai

 

28.

मुझ से किसी का दुःख दर्द,किसी की तकलीफ देखी नहीं जाती या रब !

या तो तू तकदीर बदल दे उन की ,या फिर मेरी आँखें लेले

Mujhse kisi ka dukh dard, kisi ki takleef dekhi nahi jaati ya rabb

Yaa toh tu taqdeer badal de un ki, ya fir meri aankhein lele

 

29.तकदीर पर शायरी

खुदा साथ देता है उन्हें जो यह समझते हैं,

कि खुद अपने ही हाथों से बना करती हैं तकदीरें।

Khuda saath deta hai unhe jo yeh samjhte hai,

Ki khud apne hi haathon se bana karti hai taqdeerein

 

30.

एक पत्थर की तकदीर भी संवर सकती है,

शर्त यह है कि उसे सलीके से संवारा जाए।

Ek pathar ki taqdeer bhi sawar sakti hai

Shart yeh hai ki usey saleeke se sanwara jaaye

 

31.

किस लिये शिकवा करते हो तकदीर लिखने वाले से,

दिन बदल सकते है जब खुद की कोशिश से।

Kis liye shikwa karte ho taqdeer likhne wale se

Din badal sakte hai jab khud ki koshish se

 

32.तकदीर शायरी

हमारी तकदीर में उनकी मोहब्बत थी ही नहीं

उनके दिल में हमारी चाहत थी ही नहीं,

उनकी मुस्कराहट को हम, प्यार समझ बेठे

और हमारे प्यार की कोई कीमत थी ही नहीं,

Hamari taqdeer mein unki mohabbat thi hi nahi

Unke dil mein humari chahat thi hi nahi

Unki muskrahat ko hum pyar samjh bethe

Aur humare pyar ki koi keemat thi hi nahi

 

33.

एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों हैं !

इनकार करने पर भी चाहत का इकरार क्यों हैं !!

उसे पाना नहीं हैं मेरी तक़दीर में सायद !

फिर भी हर मोड़ पर उसका इंतजार क्यों हैं !!

Ek ajnabi se mujhe itna pyar kyun hai

Inkaar karne par bhi chahat ka ikrar kyun hai

Usey paana nahi hai meri taqdeer mein shayad

Fir bhi har mod par uska intezaar kyun hai

 

34.taqdeer shayari

मैं अब ख्वाबों में कहाँ एतबार करता हूँ

एक इंसान हूँ तकदीर की चाबी से चलता हूँ

Main ab Khwabon mein kaha aitbaar karta hoon

Ek Insaan hoon taqdeer ki chaabi se chalta hoon.

 

35.

बेवफा क्यों कहें उनको जब तकदीर में नहीं था उसका प्यार

तकदीर ने ही धोखा दे दिया, धोखेबाज तो नहीं था मेरा यार

Bewafa kyun kahe unko jab taqdeer mein nahi tha uska pyar

Taqdeer ne hi dhokha de diya, dhokhebaj toh nahi tha mera yaar

Taqdeer Meaning In English – Luck

तकदीर को इंग्लिश में लक (luck) कहाँ जाता है।

Read More:

Best रोमांटिक शायरी हिंदी में लिखी हुई

Leave a Comment