50+ New Murshad Shayari Status In Hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए Murshad Shayari Collection लेकर आये हैं, आपने ऐसी शायरी सोशल मीडिया पर सुनी होगी जिसमें शायरी के बीच मुर्शद लफ्ज़ का इस्तेमाल किया जाता है और यह शायरी को एक अलग रूप भी देता है और सुनने में भी अच्छा लगता है। मुर्शद शायरी टिकटोक पर एक यूजर द्वारा पेश की जाती है जिसका ID User Name: @ali.shah155 है।

हम भी जो Murshad Shayari Hindi आप से साँझा करने वाले हैं वह शायरी भी इन्हीं के द्वारा बोली गयी शायरी है जिनमें से बेहतरीन और लोगों के द्वारा ज्यादा पसंद की जाने वाली शायरी हम आपके सामने पेश कर रहे  हैं।

दोस्तों हम आपको बता दें कि Murshad Meaning In Shayari क्या होता है अर्थात शायरी में मुर्शद का मतलब क्या होता है?।। शायरी में मुर्शद का मतलब किसी व्यक्ति से होता है, मुर्शद का मतलब होता है रास्ता दिखाने वाला व्यक्ति या फिर गुरु, पीर।

 

Murshad Shayari Collection

 

के जिसके लफ़्ज़ों में तुम्हें अपना अक्स मिले

मुरशद बहुत मुश्किल है तुम्हें ऐसा शक्स मिले

 

Ke jiske lafzon mein tumhe apna aqass mile

Murshad bahut mushkil hai tumhe aisa shakhs mile

 

 

मोहब्बत कैद है, इस कैद के आदि ना बन जाना

मुरशद सलाखें टूट जाएं तो रिहाई मार देती है

 

Mohabbat qaid hai, is qaid ke aadi na ban jana

Murshad salaakhen toot jayein to rehayi maar deti hai 

 

 

सुना है ईद आने वाली है, यानि सब ख़ुशियाँ मनाएंगे

मुरशद तेरे ठुकराए हुए हम, बताओ ना? किधर जाएंगे

 

Suna hai eid aane wali hai, yaani sab khushiyan manayenge

Murshad tere thukraya huye hum, batao na? Kidhar jayenge

 

 

तुझको मेरी ना मुझको तेरी खबर मिली

मुरशद ईद इस बार भी दबे पांव गुज़र गयी

 

Tujhko meri naa mujhko teri khabar mili

Murshad eid is baar bhi dabe paanv guzar gayi

 

यह भी पढ़ें 👉 50+ New Love Sayari (शायरी)

 

के उनकी थी ना खता हम गलत समझ बैठे

मुरशद वो मोहब्बत से बात करते थे हम मोहब्बत समझ बैठे

 

Ke unki thi na khataa hum galat samjh bethe

Murshad woh mohabbat se baat karte the hum mohabbat samjh bethe

 

 

Murshad Shayari In urdu

 

उनकी तलाश में हम अपना दिल बेचने निकले थे

मुर्शद, खरीददार ऐसा मिला दर्द भी दे गया ओर दिल भी ले गया

 

Unki talaash mein hum apna dil bechne nikle the

Murshad, khareed dar aisa mila dard bhi de gaya or dil bhi le gaya

 

 

के तू उतना कर ही नहीं सकता था मुझे

मुर्शद, जितना खुद को बर्बाद किया मैंने

 

Ke tu utna kar hi nahi sakta tha mujhe

Murshad, jitna khud ko barbad kiya maine

 

 

के कहाँ पूरी होती हैं दिल की सभी ख्वाहिशें

मुर्शद, बारिश भी हो, यार भी हो फिर पास भी हो

 

Ke kaha poori hoti hai dil ki sabhi khawaishein

Murshad, barish bhi ho, yaar bhi ho fir paas bhi ho

 

Murshad shayari in english

 

वो कहता था मुझे पसंद है मुस्कुराहट तेरी

हाय मुर्शद, फिर ले गया छीन कर

 

Woh kehta tha mujhe pasand hai muskurahat teri

Haaye murshad, fir le gaya chheen kar

 

 

मुर्शद घुटनों पर बैठ कर करते हैं इबादत

ओर दुआ पूरी होते ही पीर बदल लेते हैं

ओर जिस्म से खेल कर मोहब्बत के नाम पर

हाय मुर्शद मेरे शहर के रांझे, हीर बदल लेते हैं

 

Murshad ghutno par beth kar karte hai ibadat

Aur dua poori hote hi peer badal lete hai

Aur jism se khel kar mohabbat ke naam par

Haaye murshad mere shehar ke ranjhe, heer badal lete hai

 

 

के रात भी गुज़र गयी, उम्मीद का सूरज डूब गया

वादा करके जाने वाला मुर्शद, लौट कर आना भूल गया

 

K raat bhi guzar gayi, umeed ka suraj doob gaya

Vaada karke jaane wala murshad, laut kar aana bhool gaya

 

Murshad shayari attitude

 

मुर्शद वो जब मिला था मुझको, तो लगता था कभी बिछडेगा नहीं

लेकिन वो तो बिछड़ गया, मैंने बोला ना मुझे लगता था

 

Murshad woh jab milaa tha mujhko, toh lagta tha kabhi bichhde ga nahi

Lekin woh to bichhad gaya, maine bola na mujhe lagta tha

 

 

मुर्शद एक चेहरे से उतरती हैं निकाब कितनी

लोग कितने हमें एक शक्स में मिल जाते हैं

हाय मुर्शद इस बार वक़्त बदलेगा तो पूछूंगा उसे

तुम बदलते हो तो क्यों लोग बदल जाते हैं 

 

Murshad ek chehre se utrati hai naqaab kitni

Log kitne hume ek shakhs mein mil jaate hai

Haaye murshad is baar waqt badlega to puchenge usey

Tum badlate ho toh kyun logg badal jate hai

 

Murshad shayari sad

 

murshad shayari image
murshad shayari image

 

तूने हमेशा आने में देर कर दी

मुर्शद, मैंने हमेशा अपनी घड़ी को खराब समझा

 

Tune humesha aane mein derr kar di

Murshad, maine humesha apni ghadi ko kharab samjha

 

 

वो मुझे छोड़ कर चला गया मुर्शद

उसे किसीने मजबूर किया होगा

 

Woh mujhe chhod kar chala gaya murshad

Usey kisine majboor kiya hoga

 

 

यह जो तुम इश्क़ में करते हो हिसाब किताब

मुर्शद हम जो करने बैठे तो तुम्हें खरीद लेंगे

 

Yeh jo tum ishq mein karte ho hisaab kitaab

Murshad hum jo karne bethe toh tumhe khareed lenge

 

 

मुझसे मोहब्बत पर मश्वरे मांगते हैं लोग

हाय मुर्शद, तेरा इश्क़ कुछ इस तरह से तजर्बे दे गया मुझे

 

Mujhse mohabbat par mashware mangte hai log

Haaye murshad, tera ishq kuch is tarah se tajurbe de gaya mujhe

 

Murshad shayari Love

 

के ना चाहते हुए भी इश्क़ दीवाना बना लेता है

मुर्शद, खुदा दिल तो देता है मगर धड़कन किसी ओर को बना देता है

 

K naa chahte huye bhi ishq deewana bana leta hai

Murshad, khuda dil to deta hai magar dhadhkan kisi aur ko bana deta hai

 

 

murshad shayari image
murshad shayari image

 

हमें कमरों में नहीं किताबों में उतारो

हाए मुर्शद हम मोहब्बत के मारे हुए हैं

 

Hume kamro mein nahi kitabon mein utaaro

Haaye murshad hum mohabbat kr maare huye hai

 

 

मुर्शद बातें उनकी ऐसी के वफ़ा पे खत्म

जब निभाने की बात आई वो मजबूर निकले

 

Murshad baatien unki aisi ke wafa pe khatam

Jab nibhane ki baat aayi toh majboor nikle

 

 

बस एक मोड़ गलत मुड़ गया था मुर्शद

फिर ना रास्ता मिला, ना ही घर आया

 

Bas ek modd galat mudd gaya tha murshad

Fir naa rasta milaa, naa hi ghar aaya

 

 

हम जैसे बेकार लोग, के हम जैसे बेकार लोग

मुर्शद रूठ भी जाएं तो कोई मनाने नहीं आता

 

Hum jaise bekaar log, ke hum jaise bekaar lig

Murshad rooth bhi jaayein to koi manane nahi aata

 

 

Murshad Shayari In Hindi

 

के काश कोई ऐसा हो, जो गले लगा कर कहे

मुर्शद, रोया ना कर तेरे रोने से मुझे भी दर्द होता है

 

Ke kaash koi aisa ho, jo gale laga kar kahe

Murshad, roya na kar tere rone se mujhe bhi dard hota hai

 

 

लाश जंगल से किसी रोज़ मिलेगी मेरी

मुर्शद, मैं इलाके के रईसों से इश्क़ कर बैठा हूँ

 

Laash jangal se kisi roz milegi meri

Murshad, main ilaake ke rayison se ishq kar betha hu

 

 

तेरी मोहब्बत की हिफाज़त कुछ इस तरह से की मैंने

मुर्शद, जब किसी ने प्यार से देखा नज़रें झुका ली मैंने

 

Teri mohabbat ki hifazat kuch is tarah se ki maine 

Murshad, jab kisi ne pyar se dekha nazrein jhuka li maine

 

Murshad shayari text

 

आवाज़ नहीं आती खुदा की कसम

मुर्शद गौर तो कीजिये दिल टूट चुका है

 

Awaaz nahi aati khuda ki kasam

Murshad gaur toh kijiye dil toot chuka hai

 

 

दिल को कागज़ समझ रखा है क्या

आते हो जलाते हो चले जाते हो

 

Dil ko kagaz samjh rakha hai kya

Aate ho jalate ho chale jate ho

 

 

के मुझमें हज़ार खामियाँ है माफ कीजिए

अरे आप भी तो कभी अपना आईना साफ कीजिए

 

Ke mujhme hazaar khamiyan hai maaf kijiye

Aray aap bhi toh kabhi apna aaina saaf kijiye

 

Murshad shayari status

 

के सुन लिया फैंसला तेरा, ओर सुनकर उदास हो बैठे

जहन चुपचाप आँख खाली है जैसे हम कायनात खो बैठे

 

Ke sun liya faisla tera, aur sunkar udaas ho bethe

Jahan chup chap aankh khali hai jaise hum qayanaat kho bethe

 

 

अरे नहीं मुर्शद बहुत खुश हूँ मैं

आप बस आँखों पे ध्यान ना दीजिए

 

Aray nahi murshad bahut khush hu main

Aap bas aankhon pe dhayan na dijiye

 

 

के मतलब की दुनियाँ थी इसलिए छोड़ दिया सबसे मिलना

मुर्शद वर्ना यह उम्र अभी तन्हाई के काबिल कहाँ थी

 

Ke matlab ki duniya thi isiliye chhod diya sabse milna

Murshad varna yeh umar abhi tanhayi ke qaabil kaha thi

 

 

हम क्यों गम करें के हमें वो नहीं मिले

मुर्शद गम तो वो करें जिन्हें हम नहीं मिले।।

 

Hum kyun gam kare ke hume woh nahi mile

Murshad gam to woh kare jinhe hum nahi mile

 

 

पढ़ता रहता हूँ आपका चेहरा अक्सर

मुर्शद अच्छी लगती है यह किताब हमें

 

Padhta rehta hu aapka chehra aksar

Murshad achhi lagti hai yeh kitaab hume

 

 

के कुछ तो मजबूरियाँ रही होंगी

मुर्शद यूँ तो कोई बेवफा नहीं होता

 

Ke kuch toh majbooriyan rahi hongi

Murshad yu toh koi bewafa nahi hota

 

 

के मुझे यह कौन समझाएं उसे याद करने में

मुर्शद कॉलेज फट भी सकता है दिल कट भी सकता है

 

Ke mujhe yeh kaun samjhaye usey yaad karne se

Murshad kaleja fatt bhi sakta hai dil katt bhi sakta hai

 

 

मुर्शद बात इज़्ज़त पे आ गयी थी

मैं मोहब्बतें मुँह पे मार आया

 

murshad baat izzat pe aa gayi thi

Main mohabbat munh par maar aaya

 

Murshad shayari hindi me likhi huyi

 

वापसी का इरादा कीजिये

मुर्शद यादों से अब गुज़ारा नहीं होता

 

Wapsi ka irada kijiye

Murshad yaadon se ab guzara nahi hota

 

 

गरूर जांचता है मुझपर तभी तो करता हूँ

मुर्शद मैं वो नहीं जो हर किसी पर मरता हूँ

 

Garood jachta hai mujhpar tabhi to karta hu

Murshad main woh nahi jo har kisi par marta hu

 

 

के रहते हैं मशरूफ करते हैं बहाने, बताते हैं मजबूरियाँ

उफ मुर्शद यह लोग खुद को साफ लफ़्ज़ों में बेवफा क्यों नहीं कहते

 

Ke rehte hai mashroof karte hai bahane, batate hai majbooriyan

Uff murshad yeh log khud ko saaf lafzon mein bewafa kyun nahi kehte

 

 

दोस्तों यदि आपको यह Murshad Shayari Collection पसंद आया तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर जरूर करें आप चाहे तो इस पोस्ट के लिंक को शेयर कर सकते हो या फिर आप Murshad Shayari Copy Paste करके उनके साथ सांझा कर सकते हो। 

Read More: 

50+ Pagal Shayari In Hindi

Two Line Sad Shayari 2021

Leave a Comment