50+ जख्म दर्द शायरी | Best Zakhm Dard Shayari

जख्म दर्द शायरी zakham dard shayari

दोस्तों हम आपके लिए ख्म दर्द शायरी लेकर आये हैं हमें उम्मीद है कि आपको यह zakhm dard shayari in hindi बेहद पसंद आएगी। यदि आपको यह शायरी पसंद आये तो आप इसको अपने दोस्तों, प्रेमी और प्रेमिका से जरूर साँझा करें।

 

आप इस शायरी को उसके साथ ज़रूर शेयर करें जिसने आपको जख्म और दर्द दिए। तो चलिए दोस्तों शुरू करते हैं जख्म दर्द शायरी:-

 

जख्म दर्द शायरी | Zakhm Dard Shayari

 

जख्म दर्द शायरी photo
जख्म दर्द शायरी photo

जख्म भरता नहीं है मरहम लगाने से

दर्द बढ़ता ही जाता है तेरी याद आने से

 

Zakhm Bharta Nahi Hai Marham Lagane Se

Dard Badhta Hi Jata Hai Teri Yaad Aane Se

 

 

मुझे मिला जो दर्द उसे तुम खत्म कर दो

अपने प्यार से मेरे दिल के जख्म भर दो

 

Mujhe Mila Jo Dard Usey Tum Khatam Kar Do

Apne Pyar Se Mere Dil Ke Zakham Bhar Do

 

 

नए जख्म दर्द लगता है फिर से मिलने जा रहे हैं

ज़िंदगी में प्यार करने वाले लोग फिरसे आ रहे हैं

 

Naye Zakhm Dard Lagta Hai Firse Milne Jaa Rahe Hai

Zinda Mein Pyar Karne Wale Log Firse Aa Rahe Hai

 

जख्म दर्द शायरी

 

अपनो के दिये जख्म कभी भरते नहीं

इसलिए हम अपनो पर भरोसा करते नहीं

 

Apno Ke Diye Zakhm Kabhi Bharte Nahi

Isliye Hum Apno Par Bharosa Karte Nahi

 

 

हमें धोखा देना बेवफ़ाई करना आता नहीं

सच्चा इश्क़ कभी जख्म देना सिखाता नहीं

 

Hume Dhokha Dena Bewafai Karna Aata Nahi

Sacha Ishq Kabhi Zakhm Dena Sikhata Nahi

 

जख्म दर्द शायरी

 

जख्म दिए ऐसे के दर्द से कराह रहा हूँ

आकर लगा दो मरहम में मरता जा रहा हूँ

 

Zakhm Diye Aise Ke Dard Se Karaah Raha Hu

Aakar Laga Do Marham Main Marta Ja Raha Hu

 

 

वार किया दिल पर जख्म कर दिया तूने गहरा

फिर भी तुम्हें ही पुकारता रहता है दिल मेरा

 

War Kiya Dil Par Zakhm Kar Diya Tune Gehra

Fir Bhi Tumhe Hi Pukarta Rehta Hai Dil Mera 

 

 

मेरे सर पर हाथ रख वो झूठी कसमे खाती थी

वो हर रोज़ एक नया जख्म देकर जाती थी

 

Mere Sar Par Hath Rakh Woh Jhuthi Kasme Khati Thi

Woh Har Roz Ek Naya Zakhm Dekar Jaati Thi

 

जख्म दर्द शायरी

 

तेरे इश्क़ में ऐसा डूबा के कुछ सोच ना पाया

दर्द लेकर बैठा हूँ इश्क़ में खुद को रोक ना पाया

 

Tere Ishq Mein Aisa Dooba Ke Kuch Soch Na Paya

Dard Lekar Betha Hu Ishq Mein Khud Ko Rok Na Paya

 

 

आंखों से तीर चला कर जख्मी कर दिया दिल मेरा

बेवफ़ाई की तूने तो पता चला यह झूठा प्यार था तेरा

 

Aankhon Se Teer Chala Kar Zakhmi Kar Diya Dil Mera

Bewafai Ki Tune Toh Pata Chala Yeh Jhutha Pyar Tha Tera

 

 

बेवफा से कभी दिल मत लगाना

हो जाए प्यार तो ज्यादा मत जताना

मिले फिर इश्क़ में बेवफ़ाई और जख्म

तो एक बुरा सपना समझ भूल जाना

 

Bewafa Se Kabhi Dil Mat Lagana

Ho Jaye Pyar Toh Jyada Mat Jatana

Mile Fir Ishq Mein Bewafai Aur Zakhm

Toh Ek Bura Sapna Samjh Bhool Jana

 

जख्म दर्द शायरी

 

तू भी तड़पे मेरी तरह इश्क़ में

तेरा दर्द-ए-दिल ना रुक पाए

कोई करे धोखा तेरे साथ फिर

बेवफ़ाई का जख्म ना भर पाए

 

Tu Bhi Tadpe Meri Tarah Ishq Mein

Tera Dard-Ae-Dil Na Ruk Paaye

Koi Kare Dhokha Tere Saath Fir

Bewafai Ka Zakhm Na Bhar Paye

 

 

होता है दर्द तो होने देता हूँ

खुद को जी भरकर रोने देता हूँ

मुझे बर्बाद करना चाहती हो तुम चलो

तेरी बेवफ़ाई में खुद को खोने देता हूँ

 

Hota Hai Dard Toh Hone Deta Hu

Khud Ko Jee Bhar Kar Rone Deta Hu

Mujhe Barbad Karna Chahti Ho Tum Chalo

Teri Bewafai Mein Khud Ko Khone Deta Hu

 

 

बेवफ़ाई का दर्द देकर हँसते हैं ज़ालिम

कुछ ऐसे इश्क़ कर के वो कहर ढाते हैं

 

Bewafai Ka Dard Dekar Haste Hai Zaalim

Kuch Aise Ishq Kar Ke Woh Qahar Dhate Hai

 

जख्म दर्द शायरी

 

फूलों जैसा था जो कांटों से जख्म दे गया

जो मिटता नहीं कभी ऐसा वो दर्द दे गया

 

Phoolon Jaisa Tha Jo Kanto Se Zakhm De Gaya

Jo Mitetaa Nahi Kabhi Aisa Woh Dard De Gaya

 

 

जो बहुत प्यार से आपकी ज़िंदगी में आते हैं

वही जख्म, दर्द और बेवफ़ाई देकर चले जाते हैं

 

Jo Bahut Pyar Se Aapki Zindagi Mein Aate Hai

Wahi Zakhm Dard Aur Bewafai Dekar Chale Jate Hai

 

 

जख्म दर्द शायरी status

 

तेरे दिए दर्द को लेकर अब तक ना संभल पाए

तेरे दिए दिल पर जख्म आज तक ना भर पाए

 

Tere Diye Dard Ko Lekar Ab Tak Na Sambhal Paaye

Tere Diye Dil Par Zakhm Aaj Tak Ja Bhar Paaye

 

 

तुझसे प्यार करता हूँ इसलिए तेरे दिये जख्मों को

तोहफा समझ में अपने पास संभाल रखता हूँ

 

Tujhse Pyar Karta Hu Isliye Tere Diye Zakhmo Ko

Tohfa Samajh Mein Apne Paas Sambhal Rakhta Hu

 

जख्म दर्द शायरी status

 

यह जो जख्म देती हो बेवफ़ाई के

इनका दर्द तुम्हें हो तो सह ना पाओगी

 

Yeh Jo Zakhm Deti Ho Bewafai Ke

Inka Dard Tumhe Ho Toh Seh Na Paogi

 

 

यह बेवफ़ाई के जख्म मरहम लगाने से भरते नहीं

इश्क़ खुदा का नाम है इसमें बेवफ़ाई करते नहीं

 

Yeh Bewafai Ke Zakhm Marham Lagane Se Bharte Nahi

Ishq Khuda Ka Naam Hai Isme Bewafai Karte Nahi

 

जख्म दर्द शायरी status

 

जख्म देकर दर्द वो देती ही जा रही है

बेवफ़ाई कर वो हमें हर रोज़ तड़पा रही है

 

Zakhm Dekar Dard Woh Deti Hi Jaa Rahi Hai

Bewafai Kar Woh Hume Har Roz Tadpa Rahi Hai

 

 

यूँ तुम हमे क्यों तड़पा रही हो

रोज़ हमसे दूर होते जा रही हो

जख्म देकर हँसती हो गैरों के साथ

मुझे दर्द देकर बेगाना बनाती जा रही हो

 

Yun Tum Hume Kyun Tadpa Rahi Ho

Roz Humse Door Hote Jaa Rahi Ho

Zakhm Dekar Hasti Ho Gairon Ke Sath

Mujhe Dard Dekar Begana Banati Ja Rahi Ho

 

Zakhm dard shayari in hindi

 

इतने टूट गए हैं इश्क़ में कि हँस भी ना पाते हैं

तेरे दिए जख्म हमें हर रात को दर्द देकर रुलाते है

 

Itne Toot Gaye Hai Ishq Mein Ki Hass Bhi Na Paate Hai

Tere Diye Zakhm Hume Har Raat Ko Dard Dekar Rulate Hai

 

जख्म दर्द शायरी status

 

काश बनाने वाले ने यह दिल कांच का बनाया होता

तोड़ने वाला इसे हाथों से तोड़ पछताया होता

तोड़ता जब दिल तो उसको दर्द ने तड़पाया होता

काश तोड़ने वाले के हाथ में भी जख्म आया होता 

 

Kaash Banane Wale Ne Yeh Dil

Kanch Ka Banaya Hota

Todne Wala Isey Haaton Se

Todd Kar Pachhtaya Hota

Todta Jab Dil Toh Usko

Dard Ne Tadpaya Hota

Kaash Todne Wale Ke Haath

Mein Bhi Zakhm Aaya Hota

 

 

Read More:👇

 

Two Line Sad Shayari 2022

Sad Life Shayari In Hindi