20+ Parizaad Shayari in Hindi & Urdu | Parizad poetry & quotes (2022)

Parizaad Shayari in Hindi & Urdu _ Parizad poetry & quotes

दोस्तों आज हम इस Parizaad Shayari ब्लॉग पोस्ट में आपके साथ Parizaad Pakistani Drama में बोली गयी शायरी को शेयर कर रहे हैं। इसको 2021 में लोगों के सामने hum tv पर release किया गया था।

इसके बाद यह सिरीज़ इतनी famous हुई कि भारत में भी इसको पसंद करने वालों की गिनती बढ़ गयी। इसमें बोली शायरी को लोगों के द्वारा बहुत पसंद किया गया। parizaad series को आप youtube पर humtv के ऑफिसियल चैनल पर देख सकते हो।

इसके कुल 29 एपिसोड हैं और हर एक एपिसोड लगभग 35 से 40 मिंट का है, यदि आपने अभी तक इसको नहीं देखा तो जरूर देखें यह आपको बेहद पसंद आएगा।

तो दोस्तों हम इस पोस्ट में Parizaad में बोली गयी शायरी को आपके साथ Hindi or urdu भाषा मे शेयर कर रहे हैं, जिसमें Parizad Shayari In Hindi, Parizaad Poetry In Hindi, Parizaad Quotes or Parizaad Shayari In Urdu आपको देखने के लिए मिलेगी।

20+ Best Jennifer Winget Shayari | Love Shayari Instagram

 

Parizaad Shayari In Hindi

 

Parizaad Shayari In Hindi
Parizaad Shayari

जब बारिश की पहली बूंद गिरे तो चले आना

मेरा संदेसा मिले या न मिले तुम चले आना।।

 

Jab baarish ki pehli boond gire to chale aana

Mera sandesha mile ya na mile tum chale aana…

 

सितारे जो चमकते हैं

किसी की चश्म-ए-हैरा में

मुलाकातें जो जो होती हैं

जमाल-ए-अब्र-ओ-ब्रां में

 

यह न आबाद वक़्तों में

दिल ए नाशाद में होगी

 

मोहब्बत अब नहीं होगी

यह कुछ दिन बाद में होगी

गुज़र जाएंगे जब यह दिन

यह उन की याद में होगी।।

Parizaad Shayari

 

Sitare Jo Chamkte Hain

Kisi Ki Chashm-e-Haira Mein

Mulaqaten Jo hoti Hain

Jamal-e-Abr-o-Baran Mein

 

Ye Na-Abad Waqton Mein

Dil-e-Nashad Mein Hogi

 

Mohabbat ab Nahi Hogi

Ye Kuch Din Baad Mein Hogi

Guzar Jayenge Jab Ye Din

Ye Un Ki Yaad Mein Hogi

 

रात हो, चाँद हो, शहनासा हो

क्यों ना रग रग में फिर नशा सा हो

मैंने इक उम्र खर्च की है तुम पर

तुम मेरा कीमती एहसासा हो

 

एक तो खौफ भी हो दुनियां का

और मोहब्बत भी बे-तहाशा हो।।

Parizaad Drama Shayari

 

Raat ho chand ho shanasa ho

Kyun na rag rag mein phir nasha sa ho

Mein ne ik Umar kharch ki hai tum par

Tum mera qeemti asasa ho

 

Ek to khauf bhi ho duniya ka

Aur mohabbat bhi bey-tahasha ho

 

Maine ek Umar kharch ki hai tum par lyrics

 

कभी तुमने कहा था

वापस लौट जाओ

कि मोहब्बत हक़ है

हक़ कुछ ख़ूबरूओं का

हक़ कुछ शहज़ादों का,

बहुत दिलकश से जिस्मों का

फलक के परिज़ादों का।।

 

मगर इस सौगात से आरी

मैं एक आम सा कारी

सो वापस लौट आया

मगर यह कह ना पाया

बहुत बर्बाद होते हैं

फ़क़त चेहरे कहाँ

कुछ दिल भी परीजाद होते हैं

यह दिल जब टूट जाएं तो

फ़लक भी कांप उठते हैं

 

मोहब्बत रूठ जाए तो

वबाएँ फैल जाती हैं

तो देख लो जाना

तुम्हारे शहर में आज

जंगलों के स्कूत है

तुम्हें नाज़ था जिस पर

वो मोहब्बत भी मशहूर है

 

तुम्हारा हुस्न बस एक सरां है

क्या दिलकश क्या बदसूरत

हर चेहरे पर नकाब है

हर चेहरे पर हिजाब है।।

Parizaad Shayari Lyrics

 

Kabhi tum ne kaha tha Wapas laut jao

Kabhi tum ne kaha tha Wapas laut jao

Ki Mohabbat haq hai 

Haq kuch khoobruon ka

Haq kuch shahzadon ka

Bahot dilkash se jismon ka

Falak ke Parizaadoan ka

 

Magar iss saughat ka aari

Main ek aam sa qaari

So wapas laut aaya

Magar yeh keh na paya

Bahut barbaad hote hain

faqat chehre kahan

Kuch Dil bhi Parizaad hote hain

Yeh dil jab toot jaye toh

Falak bhi kaanp utthtey hain

Mohabbat rooth jaye to

Wabaayein phail jati hain

 

Toh dekh lo janaañ

Tumhare shehar mein aaj

Janglon ka sukoon hai

Tumhein naaz tha jis par

Woh mohabbat bhi mashoor hai

 

Tumhara husn bas ek saraan hai

Kya dilkash kya Badsoorat

Har chehre par naqab hai

Har shakhs ba hijab hai

 

Parizaad Shayari In English

 

Mohabbat ab nahi hogi

Yeah kuch din baad mein hogi

Guzar jayenge jab ye din

Yeh un ki yaad mein hogi…

parizaad quotes in english

 

मोहब्बत अब नहीं होगी

यह कुछ दिन बाद में होगी

गुज़र जाएंगे जव यह दिन

यह उन की याद में होगी।। 

 

Ki mere qatal ke baad usne jafa se touba

Haye us zood-e-pasheman ka pasheman hona…

 

कि मेरे क़त्ल के बाद उसने जफ़ा से तौबा

हाय उस ज़ूद-ए-पशेमां का पशेमां होना।।

 

Mere do dost hain

Din ke udte baadal

Aur raat ke toote taare

Aur unki do hamjoliyan 

 

Barish ki barsati boonde

Aur girti barf ki titliyan

Fir jab kabhi hum saare

apas me mil baithte hai

pehro khoja krte hai

Tumko socha karte hai

parizad shayari in english

 

मेरे दो दोस्त हैं,

दिन के उड़ते बादल

और रात के टूटे तारे,

और उनकी दो हमजोलिया

 

बारिश की बरसती बूंदे और

गिरती बर्फ की तितलियां

फिर जब कभी हम सारे

आपस में मिल बैठते हैं

पहरो खोजा करते हैं

तुम को सोचा करते हैं।।

 

Parizaad Shayari In Urdu

 

Qissay Meri Ulfat K Jo

Marqoom Hain Saare

Aa Dekh Tere Naam Se

Masoom Hain Saare

 

Shayed Ye Zarf Hai Jo

Khamosh Hoon Ab Tak

Warna To Tere Aeib Bhi

Maloom Hain Saare

 

Sub Jurm Meri Zaat Se

Mansoob Howy “Mohsin”

Kya Mere Siwa Shehar Mein

Masoom Hain Saare

 

किस्से मेरी उल्फ़त के जो मरक़ूम हैं सारे

आ देख तेरे नाम से मासूम हैं सारे

शायद यह ज़र्फ़ है जो खामोश हूँ अब तक

वरना तो तेरे ऐब भी मालूम हैं सारे

 

सब जुर्म मेरी जात से मंसूब हुए “मोहसिन”

क्या मेरे सिवा शहर में मासूम हैं सारे।।

 

Parizaad Shayari Urdu

Yaha Gareeb ki to shayari bhi Faizul Lagti Hai

Aur Agar Mard Ameer ho to Uske Munh se 

Nikali Hui Gaali bhi shayari Lagti Hai.

 

यहाँ गरीब की तो शायरी भी फैज़ुल लगती है

और गर मर्द अमीर हो तो उसके मुंह से

निकली हुई गाली भी शायरी लगती है।।

 

Jab dheeme Dheeme hasti ho

Us barish jaisi lagti ho

Thodi dil ki kehti ho

Jyada dil mein rakhti ho

 

Kyun jaoon rangrez ke paas

Tum toh sihaa mein bhi jachti ho

Karne do unhe singaar

Tum toh sada bhi sajti ho…

Tum Sada Bhi Sajti Ho

 

जब धीमे धीमे हँसती हो

उस बारिश जैसी लगती हो

थोड़ी दिल की कहती हो

ज्यादा दिल में रखती हो

 

क्यों जाऊं रंगरेज़ के पास

तुम तो सिहा में भी जचती हो

करने दो उन्हें शिंगार

तुम सदा भी सजती हो।।

 

Parizaad Shayari Hindi

 

Parizaad Shayari Hindi Font

 

मेरे ख्वाब, तुम्हारे ख्वाब, हमारे ख्वाब

इतने सारे ख्वाब, लाज़ दुलारे ख्वाब

चाँद और तारे ख्वाब

मेरी झोली में तुम्हारे दामन में

और क्या रखा है बस ख्वाब ही ख्वाब

हम सब अपने ख्वाबों की गठड़ी

कांधे पर लादे, दरबदर भटकते हैं

मगर ताबीर नहीं मिलती,

हमारे ख्वाबों की ताबीरें जाने

किस वीराने में गाहफ़िल

नींद की चादर ताने सोई पड़ी हैं

लेकिन हमारे बेचैन ख्वाब

मसल्सल जाग रहे हैं।। 

Parizad Poetry in Text

 

Mere khwab, tumhare khwab, hamare khwab

Itne saare khwab, laaz dulare khwab

Meri jholi mein tumhare daman mein

Aur kya rakha hai bas khwab hi khwab

Hum sab apne khwabon ki gathari

Kaandhe par laade, darbadar bhatkte hain

Magar tabeer nahi milti

Humare khwabon ki tabeerain jane

Kis veerane mein ghafil

Neend ki chadar taane soi padi hain

Lekin humare bechain khwab

Musalsal jaag rahe hain…

 

सुनो तुम्हारी वफ़ा पे मुझको

गरचे पूरा यकीं है

मगर जमाने के वार का कुछ

भरोसा नहीं है

 

सो गर कभी ऐसा हो के तुम्हें

मुझसे नफरत हो जाए

तो कभी उन बातों से नफ़रत न करना

जो कभी हमने एक दूसरे से कि थी

 

के बातें तो राब्ता होती हैं

वो बैंच जहाँ हम बैठा करते थे

वो पहली बारिश, वो कॉफी के खाली मग्ग,

वो सीनेमा का पहला टिकट 

और आखरी दो सीटें सबको याद रखना

 

कभी उनसे नफरत ना करना

के यह सब तो लम्हें हैं, हर गरज़ से मावरा

सुनो मुझसे और बस मुझसे नफ़रत करना

के सिर्फ में और फ़क़त मैं ही

तुम्हारी इस नफरत के काबिल हूँ।।

Parizaad poetry nafrat

 

Suno tumhari wafa pe mujhko

Garche poora yakin hai

Magar zamane ke war ka kuch

Bharosa nahi hai

 

So agar kabhi aisa ho ke tumhe

Mujhse nafrat ho jaaye

To kabhi un baaton se nafrat na karna

Jo kabhi humne ek dusre se ki thi…

 

Ke baatein toh raabta hoti hain

Woh bench jaha hum betha karte the

Woh pehli baarish, woh coffee k khali mag

Woh cinema ka pehla ticket

Aur aakhri do seete sabko yaad rakhna

 

Kabhi unse nafrat na karna

Ke yeh aab toh lamhe hai, har garz se mawra

Suno mujh se aur bas mujhse nafrat karna

Ke sirf main aur fakat main hi teri is nafrat ke kaabil hun…

 

मैं तुम्हारे ही दम से ज़िंदा हूँ

मर ही जाऊं जो तुम से फुर्सत हो।।

 

Main tumhare hi dam se zinda hun,

Mar hi jaoon jo tum se fursat ho…

 

प्यास कहती है चलो रेत निचोड़ी जाए

अपने हिस्से में समुंदर नहीं आने वाला।।

parizad shayari lyrics

 

Pyaas kehti hai ab rait nacodi jaaye

Apne hisse mein samandar nahi aane wala…

 

Parizad Shayari

 

Parizaad shayari lyrics

 

सुनो! क्या तुमने कभी सरहद देखी है

सरहद के एक पार अपना घर होता है

कुछ अजनबी सी खुशियां

कुछ सनासा गम होते हैं

थोड़े पराए से अपने

कुछ अपनों जैसे पराए होते हैं।।

 

जब के सरहद के दूसरे पार

घायल करने वाला जानी दुश्मन

कांटों वाली बाड़ खंडकें और पहरेदार

मैं भी आज एक ऐसी सरहद पर खड़ा हूँ

parizad shayari in hindi

 

मेरी और तुम्हारी मोहब्बत की सरहद

सरहद के इस पार मेरा सब कुछ है

कामयाबियां, कामरानियाँ, शदमानिया

इज्ज़त, दौलत शौहरत के सुख

 

मगर सरहद के उस पार घात लगाए बैठी

एक दुश्मन मोहब्बत, ज़िंदा कैद और कफ़स

रास्वाईयों की खंदक और

बदनामियों की खरदर तार और

मैं ढलती शाम के साए तले 

इस सरहद के बीच खड़ा हूँ

 

यह सोच रहा हूँ वापस लौट जाऊं

या मोहब्बत की यह सरहद पार कर लूं

क्यों कि सरहद के इस जानिब

मेरा सब कुछ है और सरहद के उस पार तुम हो।।

parizad shayari in urdu

 

Suno! Kya tumne Kabhi sarhad Dekhi Hai

Sarhad Ke Paar Apna Ghar Hota Hai

Kuch Ajnabi Si Khushiyan

Kuch Shanasa Gham Hote Hain

Thore paraye Se Apne

Kuch Apno Jaise Paraye Hote Hain

Jab Ke Serhad K Dusre Paar

Ghayal Krne wala Jaani Dushman

Kaanto wali Baar Khandakien Aur Pehredar

Parizaad Shayari Urdu

 

Mein Bhi Aaj Ek aisi Serhad Per Kherha Hun

Meri Aur Tumhari Mohabbat Ki Serhad

Sarhad Ke Is Paar Mera Sab Kuch Hai

Kamyabiaa Kamraniaa Shadmaniaa

Izzat daulat shauhrat Ke Sukh

Magar Sarhad Ks Us Paar

Ghaat Lagae Bethi ek Dushman Mohabbat

Zinda Qaid Aur Kafas

Ruswaion Ki Khandak Aur Badnamion 

Ki Khardar Taar

Aur Mein Dhalti Sham K Sayee Tale

Is Serhad k Beech Kherha Hun

Yeh Soch Raha Hun K Wapas laut jaun

Ya Mohabbat ki Yeh Sarhad Paar Kr lu

Kyon KI Sarhad KE Is Janib Mera Sab Kuch Hai

Jab Ke Sarhad Ke Us Paar Tum Ho

 

Parizaad Poetry in Hindi & Urdu

 

Parizaad Shayari Poetry

 

हमेशा देर कर देता हूँ मैं

 

ज़रूरी बात कहनी हो, कोई वादा निभाना हो

उसे आवाज़ देनी हो, उसे वापस बुलाना हो

हमेशा देर कर देता हूँ मैं

 

मदद करनी हो उसकी, यार की ढारस बंधाना हो

बहुत दारीना रास्तों पर किसी से मिलने जाना हो

हमेशा देर कर देता हूँ मैं

 

बदलते मौसमों की सैर में दिल को लगाना हो

किसीको याद रखना हो किसीको भूल जाना हो

हमेशा देर कर देता हूँ मैं

 

किसीको मौत से पहले किसी गम से बचाना हो

हकीकत और थी कुछ उस को जा के यह बताना हो

हमेशा देर कर देता हूँ मैं।।

parizaad poetry in urdu

 

Hamesha der kar kar deta hu main

 

Zaroori baat kehni ho

Koi vaada nibhana ho

Usey awaaz deni ho

Usey wapas bulana ho

Hamesha der kar kar deta hu main

 

Madad karni ho uski

Yaar ki dharas bandhana ho

Bahut dareena raaston par

Kisi se milne jana ho

Hamesha der kar kar deta hu main

 

Badalte mausam ke sahr mein

Dil ko lagana ho

Kisi ko yaad rakhna ho

Kisi ko bhool jana ho

Hamesha der kar kar deta hu main

 

Kisi ko maut se pehle

Kisi gham se bachana ho

Haqeeqat or thi kuch usko

Jakar yeh batana ho

Hamesha der kar kar deta hu main

 

parizaad poetry in hindi

 

वो सच ही तो कहता था

कि हमेशा देर की मैंने

ज़रूरी बात कहने में कोई वादा निभाने में

तुम्हें आवाज़ देने में तुम्हें वापस बुलाने में

हमेशा देर की मैंने

हां मैं जानता हूँ वो सच कह गया था

तुम्हें मिलने से पहले और तुम्हें पा लेने तक

आखिर क्यों इतनी देर की मैंने

parizaad poetry lyrics

 

Woh sach hi toh kehta tha

Ki hamesha der ki maine

Zaroori baat kehne mein

Koi vaada nibhane mein

Tumhe awaaz dene mein

Tumhe wapas bulane mein

Hamesha der ki maine

Haa main janta hu

Woh sach keh gaya tha

Tumhe milne se pehle

Aur tumhe paa lene tak

Aakhir kyun itni der ki maine…

 

Parizad Quotes In Hindi & Urdu

Read More👉 Nusrat Fateh Ali Khan Shayari and quotes | best nfak lines (2022)