आरज़ू शायरी |30+ Best Aarzoo Shayari

आरज़ू शायरी: दोस्तों हम आपके लिए लेकर आये हैं दो लाइन्स आरज़ू शायरी। किसी को पाने की आरज़ू और किसी से मिलने की आरज़ू जो पूरी ना हो सकी या दिल में ही दबी रह गयी इस पर यह शायरी लिखी गयी है हम उम्मीद करते हैं कि यह शायरी आपको पसंद आएगी। Aarzoo Shayari For You

 

Aarzoo Shayari | आरज़ू शायरी

 

This is box title

आरज़ू शायरी
आरज़ू शायरी

एक मुद्दत से उस मासूम चहरे को देखने की आरज़ू है

जो इस रंगीन दुनियां में हमें वीरान कर छोड़ गया।।

Ek Muddat Se Us Masoom Chahare Ko Dekhne Ki Arzoo Hai

Jo Is Rangeen Duniyaa Mein Humien Veeran Kar Chhod Gaya..

 

2.

मै रोया नहीं था कभी तेरी आरज़ू ने रुला दिया

एक तेरी चाहत में हमने सबको भुला दिया

Mai Roya Nahi Tha Kabhi Teri Arzoo Ne Rula Diya

Ek Teri Chahat Mein Humne Sabko Bhula Diya

 

3.

उनके साथ ज़िंदगी गुज़रे यह दिल की आरज़ू थी

पर उसके दिल ने अलग हो जाने की खुदा से दुआ की थी

Unke Saath Zindagi Guzare Yeh Dil Ki Arzoo Thi

Par Uske Dil Ne Alag Ho Jaane Ki Khuda Se Dua Ki Thi

 

This is box title

मुद्दत से उसके साथ जीने का ख्वाब था

आरज़ू थी दिल में के उसकी परछाई बनु

आज मुद्दत बाद अपना बना लिया उसने

मेरा बरसों का ख्वाब पूरा हो गया

Muddat Se Uske Sath Jeene Ka Khawab Tha

Aarzoo Thi Dil Mein Ke Uski Parchai Banu

Aaj Muddat Baad Apna Banaa Liya Usne

Mera Barso Ka Khawab Poora Ho Gaya

 

This is box title

आरज़ू शायरी
आरज़ू शायरी

मिलने की आरज़ू थी उससे

वो हम पूरी कर ना पाए

बस जितना मिला आते वक्त

सब समेट कर चले आए

Milne Ki Arzoo Thi Usse

Woh Hum Poori Kar Na Paaye

Bas Jitna Mila Aate Waqt

Sab Samet Kar Chale Aaye

 

Tujhe Paane Ki Aarzoo

 

6.

बहुत ख्वाइशें दिल में दबा रखी हैं

तुझे पाने की आरज़ू सज़ा रखी है

कभी तो पूरे होंगे यह सब सपने

हमने मेहनत की आग लगा रखी है

Bahut Khawaishyen Dil Me Dabaa Rakhi Hai

Tujhe Paane Ki Arzoo Sajaa Rakhi Hai

Kabhi Toh Poore Honge Yeh Sab Sapne

Humne Mehnat Ki Aag Lagaa Rakhi Hai

 

7.

ऐसे ही अकेले तेरी यादों में जी लेंगे हम

बस हमें पाने की फिरसे आरज़ू ना करना

Aise Hi Akele Teri Yaadon Mein Jee Lenge Hum

Bas Humein Paane Ki Firse Arzoo Naa Karna

 

8.

शाम ढल रही थी, दारू चढ़ रही थी

बोतल खाली थी, और पीने की आरज़ू बढ़ रही थी

Shaam Dhal Rahi Thi, Daaru Chadh Rahi Thi

Bottle Khali Thi, Aur Peene Ki Arzoo Badh Rahi Thi

 

9.

तुझे पाकर खुद को भूल जाऊंगा

तू मिल जाये तो सब मिल गया

यह सोच किसीके लिए आरज़ू ना जगाऊंगा

Tujhe Paakar Khud Ko Bhool Jaunga

Tu Mil Jaye Toh Sab Mil Gaya

Yeh Soch Kisike Liye Arzoo Na Jagaunga

 

This is box title

आरज़ू शायरी
आरज़ू शायरी

यह दिल जीना भी चाहता था

तुझे पाने की चाहत भी थी

अब ना जीने की चाहत है

ना तुझे पाने की आरज़ू

Yeh Dil Jeena Bhi Chahta Tha

Tujhe Paane Ki Chahat Bhi Thi

Ab Naa Jeene Ki Chahat Hai

Naa Tujhe Paane Ki Aarzoo

 

Two Lines Aarzoo Shayari

 

11.

नहीं आरज़ू कोई उस रब से रही

बस एक गिला है जो बताना था

पूरी कर दी उसने वो ख्वाइशें

जो मेरे लिए किसी और ने की थी

Nahi Arzoo Koi Us Rab Se Rahi

Bas Ek Gila Hai Jo Batana Tha

Poori Kar Di Usne Woh Khawaish

Jo Mere Liye Kisi Aur Ne Ki Thi

 

12.

अब ना कोई गिला रहा ना किसी को पाने की आरज़ू

जब से मिल गया तू सब ठहर से गए चाहतों के सिलसिले

Ab Naa Koi Gila Raha Naa Kisi Ko Paane Ki Arzoo

Jab Se Mil Gaya Tu Sab Thahar Se Gaye Chahaton Ke Silsile

 

13.

जिसे मिल गयी वो उसकी कोई और चाहत थी

उसको मिली जो मुझे उसकी आरज़ू थी

Jise Mil Gayi Woh Uski Koi Aur Chahat Thi

Usko Mili Jo Mujhe Uski Arzoo Thi

 

14.

वक़्त नहीं मिलता उसको मुझसे मिलने का

हम उससे मिलने की आरज़ू में वक़्त निकाले बैठे हैं

Waqt Nahi Milta Usko Mujhse Milne Ka

Hum Usse Milne Ki Arzoo Mein Waqt Nikale Bethe Hai

 

This is box title

आरज़ू पर शायरी
आरज़ू पर शायरी

वक़्त बीत जाता है हर दिन ऐसे तेरी उडीक में

हर रोज़ तुझसे मिलने की आरज़ू बढ़ती जाती है

Waqt Beet Jata Hai Har Din Aise Teri Udeek Mein

Har Roz Tujhse Milne Ki Arzoo Badhti Jati Hai

 

16.

जैसे तू बस जाए सब के दिल में

ऐसे तेरे दिल में बसना चाहता हूँ

तुझे पाने की आरज़ू है बरसों से

हर रोज़ खुदा से तुझे मांगता हूँ

Jaise Tu Bas Jaye Sab Ke Dil Mein

Aise Tere Dil Mein Basna Chahta Hu

Tujhe Paane Ki Arzoo Hai Barson Se

Har Roz Khuda Se Tujhe Mangta Hu

 

17.

है आरज़ू की उनकी बाहों में सिर रखकर एक रात सो जाऊं

और दुआ है खुदा से की उस रात की कोई सुबह ना हो

Hai Arzoo Ki Unki Baahon Mein Sar Rakhkar Raat So Jaun

Aur Dua Hai Khuda Se Ki Us Raat Ki Koi Subah Naa Ho

 

2 Lines Sad Aarzoo Shayari

 

18.

उसे अपना बना कर उसका दिल लूट लेना चाहते थे

उनसे मिलने की ख्वाइशें ही आरज़ू बनकर रह गयी

Usey Apna Banaa Kar Uska Dil Loot Lena Chahte The

Unse Milne Ki Khawaishein Hi Arzoo Bankar Reh Gayi

 

19.

उनकी आंखों से आँखें मिला कर

उनके दिल को चुराना चाहते थे

उसे अपना बनाने की आरज़ू थी

दुल्हन बना कर अपने घर लाना चाहते थे

Unki Aankho Se Aankhein Mila Kar

Unke Dil Ko Churana Chahte The

Usey Apna Banane Ki Arzoo Thi

Dulhan Banakar Apne Ghar Lana Chahte The

 

This is box title

Arzoo shayari in Hindi
आरज़ू शायरी

तुझे पाने की आरज़ू दिल में लेकर

ज़िंदगी को हम जी नहीं पाते

इस लिए तू नहीं मिली हमें तो

हमने जीना ही छोड़ दिया

Tujhe Paane Ki Arzoo Dil Mein Lekar

Zindagi Ko Hum Jee Nahi Paate

Is Liye Tu Nahi Mili Humein To

Humne Jeena Hi Chhod Diya

 

21.

जितने भी थे दिल में सब सपने तोड़ दिए

उसे पाने की आरज़ू और अरमान सब छोड़ दिए

Jitne Bhi The Dil Mein Sab Sapne Todd Diye

Usey Paane Ki Arzoo Aur Armaan Sab Chhod Diye 

 

22.

कुछ वक्त ठहर जाता मेरे लिए

दिल में बहुत आरज़ू थी उसे जाता देखने की

Kuch Waqt Thahar Jaata Mere Liye

Dil Mein Bahut Arzoo Thi Usey Jata Dekhne Ki

 

23.

आरज़ू थी कि तेरी बाहों में रह जाएं

तुझे अपना बना अपने घर ले जाएं

हो जाए यह ख्वाब हमारा पूरा

अगर तू हमारा साथ दे जाए

Arzoo Thi Ki Teri Baahon Mein Reh Jayein

Tujhe Apna Bana Apne Ghar Le Jayein

Ho Jaye Yeh Khawab Hamara Poora

Agar Tu Humara Sath De Jaaye

 

24.

ना खुशी की तलाश रही

ना ही दर्द को मिटाने की आरज़ू

मै खामोश सा हो गया तेरे जाने के बाद

Naa Khushi Ki Talash Rahi

Naa Hi Dard Ko Mitane Ki Arzoo

Main Khamosh Sa Ho Gaya Tere Jane Ke Baad 

 

This is box title

ना किसी के दिल की हूँ आरज़ू

ना किसी की मुस्कान की वजह

मै वो शख्स हूँ जो किसीका ना  हो सका

Naa Kisi Ke Dil Ki Hu Aarzoo

Maa Kisi Ki Muskan Ki Wajah

Main Woh Shaks Hu Jo Kisika Naa Ho Saka

 

यह भी पढ़ें: Matlabi Shayari

Timepass shayari

Gussa Shayari

Leave a Comment